Sunday, March 7, 2010

संघर्ष

अंतहीन समंदर,आती जाती तेज़ लहरें,
एक आशंका लिए कि,
मझधार यह कहाँ ले जाएगी,
ज़िन्दगी से लड़ते- लड़ते मौत दे जाएगी,
एक किनारे की तलाश में,
निगाहें समेटना चाहती हैं समंदर,
मायूसी की घटा है चेहरे पर,
बयां करती एक दास्तान,
दरम्यान यह ज़िन्दगी मौत का
एक पल के झरोखे में मिटा जाएगी,
डूबना होगा अगर मुकद्दर मेरा,
लाख कोशिश न रंग लाएगी,
एक साहिल की तलाश में यह ज़िन्दगी बीत जाएगी...
क्या करूँ, मान लूं हार या करूँ संघर्ष आखिरी क्षण तक,
क्या होगा अंजाम यह तो तकदीर ही बताएगी........ 

7 comments:

  1. ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. mughe bahut hi pasand ai ye rachna..
    dobara padhne aa gaya...

    ReplyDelete
  4. well said........

    takdeer ka to kuch pta nhi,
    zindagi mein kya-kya dikhayegi.....

    par sanghrash krna na chodo,
    yhi to zindagi mein rang layegi.....

    ReplyDelete
  5. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  6. अत्यंत भावपूर्ण प्रस्तुति ..

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...