Thursday, November 4, 2010

सुनहरी यादें :-3

            समय और रचनाओं के अभाव में मुझे अपना ब्लॉग सुनहरी यादें कुछ दिनों के लिए बंद करना पड़ा लेकिन सुनहरी यादों के झरोखे से पुरानी रचनायें यहाँ हर शुक्रवार सुबह प्रकाशित की जाएँगी...
            आज की सुनहरी यादों में रचना है संगीता स्वरुप जी की और इसे भेजा है अनुपमा पाठक जी ने... इसे उन्होंने प्रकाशित किया था २४ दिसम्बर २००८ को और इसमें नीले आसमान का ख़ूबसूरत वर्णन है...
             तो इस सप्ताह की हमारी सर्वश्रेष्ठ पाठिका है अनुपमा पाठक और उनकी भेजी और संगीता जी की रचना का शीर्षक है  |
                                                                    ===नीला आसमान=== 

मैं -
आसमान हूँ ,
एक ऐसा आसमान
जहाँ बहुत से
बादल आ कर
इकट्ठे हो गए हैं
छा गई है बदली
और
आसमान का रंग
काला पड़ गया है।
ये बदली हैं
तनाव की , चिंता की
उकताहट और चिडचिडाहट की
बस इंतज़ार है कि
एक गर्जना हो
उन्माद की
और -
ये सारे बादल
छंट जाएँ
जब बरस जायेंगे
ये सब तो
तुम पाओगे
एक स्वच्छ , चमकता हुआ
नीला आसमान.
==========================================================
  इसी तरह दूसरों की पुरानी रचनायें भेजते रहें....  पता है  sunhariyadein@yahoo.com

      PS :- अगर आपने यह पोस्ट नहीं पढ़ी है तो कृपया टिप्पणी देने का कष्ट भी ना करें |  

28 comments:

  1. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति लाये हैं आप......संगीता स्वरुप जी को लिखने और आपको प्रस्‍तुत करने के लिये ढेर सारी बधाई और शुभकामनायें ।
    आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामाएं ...

    ReplyDelete
  2. वाह क्या वर्णन किया है...बहुत प्रभावशाली रचना.

    ReplyDelete
  3. संजय भाई बहुत बहुत धन्यवाद....

    ReplyDelete
  4. neele aasman ki sushma har baar chamatkrit karti hai!!!
    sunahri yaadein nirantar sanchayan karti rahe kavyapushpon ka...
    shubhkamnayen!!!

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुती। आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामना

    ReplyDelete
  6. शेखर तुम्हारी यह पहल हमें कुछ चुनिन्दा पोस्ट्स को पढ़ने का मौका देती है जो सर्वप्रिय रहीं. शायद हम उस समय उन रचनाओं को नहीं पढ़ पाए या हमारे ब्लॉग जगत में आने से पहले की हो.

    जीवन और नीला आसमान ..
    बहुत सुन्दर रचना है

    धन्यवाद शेखर :)

    ReplyDelete
  7. बेहद खूबसूरत प्रस्तुति।
    दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  8. मनोज जी उत्साह्वार्स्र्धन के लिए धन्यवाद...
    अगर हो सके तो पुरानी रचनायें भी भेजते रहे...

    ReplyDelete
  9. neele aasman ki khubshurti pyari lagi.......:)
    deepawli ki subhkamnayen....

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर!
    आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामना!

    ReplyDelete
  11. बहोत ही सुंदर रचना है
    आपको सपरिवार दिपोत्सव की ढेरों शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  12. उम्मीद की किरण जिंदा है गर्जना जरूर होगी और बदल छटेगे भी. दीपावली के शुभ अवसर पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. bahut sundar rachna .sach me kai baar ham aasman ki tarah hote hain kabhi badlon se bhare kabhi khali...

    ReplyDelete
  14. मम्मा ने पढ़ा वही समझी जो समजाझना है ....:)

    मै तो सिर्फ इतना कहूँगी happy dipawali

    ----------
    मेरा पोर्ट्रेट

    ReplyDelete
  15. सुन्दर और भाव पूर्ण अभिव्यक्ति!
    शुभ दीपावली!

    ReplyDelete
  16. एक दिन तो दिखेगा स्वच्छ नीला आसमान!

    सकारात्मक एवं सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  17. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  18. Sorry for this quick comment in English instead of Hindi.
    I am in a hurry now.

    I liked this poem.
    It is graphic.
    I am also able to see a human analogy.
    Tensions/emotions well up in one's mind
    A spark results in all these pent up feelings bursting out in the form of tears and sobs
    This is followed by a feeling of relief.

    I wish to compliment the author of the poem for an enjoyable piece of reading.
    I also wish to compliment the finder for digging out this jewel from the blog archives and giving us the opportunity to savour its flavour once again.
    And finally compliments to you too for offering a platform on your blog and facilitating all this.
    I look forward to more such posts in future.

    Happy Deepwali to all.

    G Vishwanath

    ReplyDelete
  19. “नन्हें दीपों की माला से स्वर्ण रश्मियों का विस्तार -
    बिना भेद के स्वर्ण रश्मियां आया बांटन ये त्यौहार !
    निश्छल निर्मल पावन मन ,में भाव जगाती दीपशिखाएं ,
    बिना भेद अरु राग-द्वेष के सबके मन करती उजियार !! “

    हैप्पी दीवाली-सुकुमार गीतकार राकेश खण्डेलवाल

    ReplyDelete
  20. आपको दिवाली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  21. nice poem...happy diwali to u n ur family :)

    ReplyDelete
  22. shekhar ji, bahut hi kavita padhne ko mili .anpma ji ko dhanyvaad aur aapki dipawali hamesha hi mangal-may ho.
    shubh kamnao ke saath----
    poonam

    ReplyDelete
  23. yeh kavita bahut hee badhiya thi,share karne ke liye thanx

    ReplyDelete
  24. Sangeeta ji kee kawita bahut sunder hai . chinta kuntha warjanaon ke badal chat jane par hee nikharta hai ek saf sundr neela aasman.

    ReplyDelete
  25. शेखर सुमन जी ,

    सबसे पहले आपसे और अपने प्रिय पाठकों से क्षमा मांगती हूँ ...यहाँ पर इतनी देर से आने के लिए ...आपका मैसेज स्पैम में था ..और मैंने आज ही देखा ...या यूँ कहूँ कि अभी अभी देखा ...जब आपने इस रचना का प्रकाशन किया तो मैं मुंबई में थी और नेट पर नियमित नहीं थी ..इसलिए भी यह ब्लॉग छुट गया ...खैर ...

    सबसे पहले मैं अनुपमा को धन्यवाद देती हूँ ....यह रचना नि:संदेह मुझे बहुत पसंद थी ..लेकिन उस समय कम ही लोगों ने इसे पढ़ा था ...अभी पाठकों कि प्रतिक्रिया पढ़ कर गौरवान्वित महसूस कर रही हूँ ....आपके इस अनोखे प्रयास के लिए साधुवाद ..

    सभी ने मुझे नया हौसला दिया है .... विश्वनाथ जी की टिप्पणी बहुत अहम है ....सभी पाठकों का आभार .

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...