Friday, November 12, 2010

सुनहरी यादें :- 4

         इस बार सुनहरी यादों में शामिल है आशा जोगलेकर जी की रचना ,जो भेजी है मोनाली जौहरी जी ने  | 
तो इस सप्ताह की हमारी सर्वश्रेष्ठ पाठिका है मोनाली जौहरी और उनकी भेजी और आशा जोगलेकर जी की लिखी रचना का शीर्षक है  |

                                                                     अब तुमसे दूर....
अब तुमसे दूर बहुत दूर चला जाता हूँ
रोकना अब न, यहां से मै कहां जाता हूँ ।
जो अपने बीच घटा था कभी कुछ नाजुक सा
वो तेरे पास अमानत सा रखे जाता हूँ ।
न पूछो मुझसे सवाल, जवाबों को न सह पाओगी
उलझे उलझे से इन सवालों को लिये जाता हूँ ।
जो कुछ था दिल में हमारे, कब किसने जाना
न उसको चौपाल पे लाओ, मै चला जाता हूँ ।
जानता हूँ, जला करके तुलसी पे दिया,
तकोगी राह मेरी, फिर भी चला जाता हूँ ।
होगी मुलाकात कभी किस्मत में जो लिख्खी होगी
एक दुआ तुम करो, एक मैं भी किये जाता हूँ ।
=================================================================
PS :- हालाँकि मुझे आप लोगों के द्वारा रचनायें नहीं के बराबर मिल रही हैं फिर भी उम्मीद का दामन छोड़ा नहीं है मैंने, उम्मीद है आप रचनायें भेजते रहेंगे... अपना पता याद दिलाता चलूँ.. 
sunhariyadein@yahoo.com

25 comments:

  1. ek dua tum karo, ek main bhi kiye jata hoo.......:)

    umda.......behtareen!!

    hamari duaon ko bhi jor le....:)

    ReplyDelete
  2. शेखर भाई व जौहरी जी,
    आभार
    बहुत बढिया गजल के लिए

    ReplyDelete
  3. Shukriya to Asha ji ka... aur Shekhar ji ka bhi to make dis lovely blog of memories :)

    ReplyDelete
  4. बहुत सरल शब्दों मे ...सुन्दर वर्णन

    ReplyDelete
  5. आप लोगों का शुक्रिया, उम्मीद है आप दूसरों की पुरानी रचनायें भेजते रहेंगे |

    ReplyDelete
  6. बेहद भावभीनी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत धन्यवाद वंदना जी...आप लोगों की प्रशंषा आशा जी तक पहुंचा दी जाएँगी...

    ReplyDelete
  8. .

    सुन्दर प्रस्तुति। मोनाली जी, आशा जी और शेखर जी को बधाई एवं आभार।

    .

    ReplyDelete
  9. Parting is always sorrowful!

    Simple words expressing feelings that tug at one's heart.

    Congratulations to Ashaji for a readable piece of writing, to Monaliji for making a good choice, and to you for offering this platform to revisit old writings that are readable again and again any day, any time.


    Regards
    G Vishwanath

    ReplyDelete
  10. एक दुआ तुम करो-- एक दुआ मै करता हूँ
    और तीसरी दुआ हम करते हैं कि जोगेलकर जी ऐसी सुन्दर कवितायें लिखती रहें। मोनाली जी सच मे जौहरी हैं। धन्यवाद। धन्यवाद्

    ReplyDelete
  11. ati sundar prastuti..
    sabhi ka hriday se dhanywaad..

    ReplyDelete
  12. आशा जोगलेकर जी को पढवाने के लिए आपका आभार !

    ReplyDelete
  13. शेखर, शुक्रिया के इस रचना को पढने का मौका दिया!
    मोनाली, लिल्लाह!
    आशा माँ, सादर चरण स्पर्श! बहुत कुछ याद आया इस रचना को पढ़के.... पहले रुआंसा हुआ और फिर खिल-खिलाके हंस पड़ा!
    आशीष
    ---
    पहला ख़ुमार और फिर उतरा बुखार!!!

    ReplyDelete
  14. Kya gazab kee rachana hai Aashaji kee!

    ReplyDelete
  15. अच्छी रचना.आभार.

    ReplyDelete
  16. सुमन जी ! आप बहुत अच्छा काम कर रहें हैं..शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  17. बहुत बहुत शुक्रिया आप लोगों का... आपने उत्साह बढाया..... अपना प्यार यूँ ही बनाये रखें....

    ReplyDelete
  18. ज़रूर होगी मुलाकात ... हमारी दुआ भी आपके साथ है ... बहुत खूबसूरत नज़्म लिखी है ..

    ReplyDelete
  19. आज पहली बार आना हुआ अच्‍छा लगा, आपकी चिट्ठकारी को देख कर। अच्‍छा काम कर रहे है... आपको शुभकामनाऍं

    ReplyDelete
  20. शेखर जी आपके ब्लॉग की अनेको विशेषताए है यहाँ आकर अच्छा लगता है !

    ReplyDelete
  21. शेखर इस रचना के लिए धन्यवाद, आशा जी को शुभकामनायें प्रेषित करना चाहता हूँ.. मोनाली जी को साधुवाद जिन्होंने यहां हमसब को यह रचना भेंट की.

    जीवन मिलने बिछड़ने का ही तो नाम है.. खूबसूरत रचना.. सरल लेकिन deep impact लिए हुए..

    ReplyDelete
  22. दुआओं का क्रम बना रहे।

    ReplyDelete
  23. भारत प्रशन मंच - 19 का सही जवाब
    http://chorikablog.blogspot.com/2010/11/blog-post_13.html
    ताऊ पहेली - 100 का सही जवाब
    http://chorikablog.blogspot.com/2010/11/100.html
    जाट पहेली- 24 का सही जवाब
    http://chorikablog.blogspot.com/2010/11/24.html

    ReplyDelete
  24. मेरी कविता चुनने के लिये मोनाली जी का और प्रेषित करने के लिये शेखर सुमन जी का धन्यवाद. विश्वनाथ जी और सब पाठकों का आभार कि उन्होने रचना को पसंद किया ।

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...