Monday, November 1, 2010

कभी-कभी...

कभी-कभी मैं
लेकर पंछियों से पंख
नीले गगन में विचरता हूँ
यूँ ही
शायद तलाश है किसी चीज की

हाथ में एक हाथ लेकर
आसमां की खाक छानता हूँ
उसे ढूँढता हूँ जो
ज़मीं पे मिलना कठिन हो चला है,

मगर खाली हाथ लौट आता हूँ
और वो हाथ भी छूट जाता है,

फिर कभी कभी
ज़मीं पे बसी दुनिया में
करता हूँ प्रयत्न
वो करने का
जो आसमान में होता है,

तभी एक नश्तर सा चुभता है
और थक कर गिर जाता हूँ

फिर उठता हूँ और
चल पड़ता हूँ आसमां की सैर पर 

बस यूँ ही कभी कभी ||

37 comments:

  1. शेखर, गिर कर फ़िर उठ जाया करो यार, यूँ ही कभी कभी। फ़िर वही आसमानों की सैर। चलना ही जिन्दगी है।
    अच्छी लगी कविता।

    ReplyDelete
  2. थककर गिरना, गिरकर उठना,
    जीवन की यह रीत पुरानी।

    ReplyDelete
  3. ye hee jeevan hai......palayan kaisa..?

    ReplyDelete
  4. सम्वेदनायें भी कागज पर उतर सकती हैं... वाकई.

    ReplyDelete
  5. वाह वाह वाह .............मन प्रसन्न हो गया बहुत सुन्दर
    आभार

    ReplyDelete
  6. लगातार प्रयास करो जब तक सफलता ना मिल जाये,
    गिर उठना, उठ कर गिरना इसी का नाम तो जिन्दगी हैं
    बहुत बेहतरीन कविता लिखी, बधाई दिल से

    ReplyDelete
  7. @ मोसम कौन,
    लीजिये उठ गया और वापस चल पड़ा आसमा की सैर पर...

    ReplyDelete
  8. bahut achhe, aise hi aasman chhute raho

    ReplyDelete
  9. शेखर अंकल ....

    अरे आप तो नाराज़ हो रहे है ...अब आपको बिस्कुट कैसे दिए जाये ... ?

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर भाव है ....

    कभी कभी
    मै लेकर पंख
    नील गगन में उडाता हू ....

    ReplyDelete
  11. .

    गिरना और उठकर फिर सैर को निकल पड़ना , इसी में तो जीवन के सर्व-सुख छुपे हुए हैं।

    .

    ReplyDelete
  12. @ chinmayee
    अरे नहीं बाबू, मैं नाराज़ थोड़े न हूँ..मैं तो उदास हो गया था थोड़ी देर के लिए ...
    अब नहीं हूँ...
    घर जो जा रहा हूँ दिवाली में...

    ReplyDelete
  13. प्रवीण भाई, संजय भाई, मनोज जी, दिव्या जी आपका ही प्यार और अपनापन है जो बार बार उठ कर खड़ा होता हूँ...

    ReplyDelete
  14. सबकी यही कहानी है भाई .....जीवन भर यही क्रम चलता है ....बहुत बढिया.....

    ReplyDelete
  15. शेखर जी बहुत ही गहरे भावों से भरी है आपकी ये कविता. ... बस जीवन चलते रहे. जीवन की यही कहानी है....

    ReplyDelete
  16. aapki kavita se kuch panktiyaan yaad aa gayi..
    dukh se mat ghabrana panchi,ye jag dukh ka mela hai..chahe bheed bahut amber par,udna tujhe akela hai!!aapki kalpnanon ki udaan ek din apna amber khoj hi legi...AAMIN!

    ReplyDelete
  17. पारुल जी..
    बहुत ही अच्छी पंक्तियाँ हैं.., बहुत बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  18. आसमान में या जमीन पर
    बस सिर्फ़ वहीं ढूँढो
    जो वहाँ मिलता है

    जमीन की चीज़ आसमान में
    या आसमान की चीज़ जमीन पर
    ढूँढना बेकार है।

    अब इस उम्र में
    अच्छी गर्लफ़्रेन्ड
    जमीन पर ही मिलेंगी
    आसमान में नहीं

    यदि इतनी अच्छी
    कविताए लिखोगे
    तो लडकियाँ तुम्हें
    खुद ढूँढती आएंगी
    काहे को इतना
    कष्ट उठा रहे हो?

    शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  19. बस, यूँ ही कभी कभी..यहाँ तो अक्सर..


    -बहुत बढ़िया!

    ReplyDelete
  20. ऐसे ही गिरते उठते कट जायेगा सफ़र , शाम आएगी तो जरुर आएगा सहर.

    ReplyDelete
  21. आशीष जी
    बिलकुल सही कहा आपने, यह सफ़र यूँ ही कट जायेगा....

    ReplyDelete
  22. विश्वनाथ जी,
    क्या आप भी मेरी चुटकी ले रहे हैं...ऐसा कुछ नहीं है.. :)

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर रचना है ... बस यूँ ही कभी कभी कुछ कोशिशें होनी चाहिए ...

    ReplyDelete
  24. Jab tak udte rehne ki zidd h tab tak kaun hai jo aapko rok sake...

    N 'll update ma blog soon..cnt say wen bt soon :)

    ReplyDelete
  25. ये यूँ ही कभी कभी तो जीवन है .
    सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  26. गिरते है सह सवार मैदाने जंग में वो भी क्या गिरे जो घुटनों के बल चले ...बहुत अच्छीं रचना मन के विचारो को उचाई व उडान देने की अच्छी कोशिश

    ReplyDelete
  27. चुटकी नहीं ले रहा हूँ।
    बस, टाँग खीच रहा हूँ।
    (अंग्रेजी में इसे harmless leg pulling कहते हैं)
    यही उम्र है तुम्हारी जब हम जैसे लोगों को थोडा बहुत मजाक सूझता है।
    हम मजे लेना चाहते हैं।
    जब तक eligible bachelor रहोगे, ऐसा मजाक बर्दाश्त करना ही होगा।
    एक बार शादी होने दो, बाद में कोई नहीं पूछेगा।
    Enjoy your moment, while it lasts. And allow us also to enjoy your bachelorhood.

    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  28. चल अविरल क्यूँ रुकता है तू?
    क्यूँ थक कर थमता है?
    जब रक्त प्रवाहित रग-रग में!
    तो पाँव क्यूँ तेरा जमता है?

    चल चला चल!
    आशीष

    ReplyDelete
  29. विश्वनाथ जी,
    शौक से कीजिये, अच्छा लगता है जब हम पर कोई इतना अधिकार दिखाता है... वैसे भी ज्यादा दिन नहीं बचे हैं इस bachelorhood. के.... :(

    ReplyDelete
  30. manav man ki aseem ichhaon v adamy sanghash ki shakti ka kavita me sundar samayojan kiya hai aapne.deepawali ki shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  31. bahut hi sundar bhav...........kabhi kabhi bas yun hi mann kuchh is tarah likh deta hai.

    ReplyDelete
  32. वाह...बहुत सुन्दर. केवल बहुत सुन्दर लिखने का मतलब ये नही है कि कविता पढी ही नहीं गई... सचमुच बहुत सुन्दर है :)

    ReplyDelete
  33. bahut umda....bahut unchi sooch....very nicee write

    ReplyDelete
  34. मन की उहापोह का बखूबी निरूपण किया है आपने. बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...