Wednesday, July 22, 2015

खरोंच...

ज़िंदगी एक मिथ्या है,
ज़िंदगी में खुश रहना एक मृगतृष्णा...
खुशियाँ चिराग है एक रोशनी का,
और उसके ठीक नीचे छुपा है गमों का अंधेरा...

************

तुम्हारी आखें एक झूला है,
जिसमे मैं ज़ोर ज़ोर से उड़ान भरता हूँ,
पर तुम्हारे हर एक आँसू के साथ
पलट कर ज़मीन पर गिर जाता हूँ...

************

ये तन्हाई की खरोंच
दिल तक बहुत ज़ोर से छिलती है,
इस चुभन को निहारते हुये
क्या मैं रो सकता हूँ सुकून से दो पल के लिए...
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...