Tuesday, February 1, 2011

क्या हमारे सांसद इतने गरीब हैं....The Parliament Canteen...

                     आवश्यक वस्तुओं की महंगाई के इस जमाने में क्या आप 12.50 रुपये में शाकाहारी थाली या 1.50 रुपये में एक कटोरी दाल या एक रुपये में एक रोटी मिलने की कल्पना कर सकते हैं। जी हां संसद भवन की कैंटीन में यह संभव है, भले ही भोजन देश में गरीबों की पहुंच से दूर होता जा रहा है।

                     बढ़ती महंगाई के खिलाफ सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने वाले सांसदों को निश्चित रूप से सस्ता खाना मिलता है। परंतु याद रहे यह सुविधा केवल सांसदों के लिए ही नहीं है। संसद के कर्मचारी, सुरक्षाकर्मी और मान्यता प्राप्त पत्रकार भी इस सुविधा का लाभ उठाते हैं, वहीं आम आदमी इन कीमतों के बारे में सोच भी नहीं सकता।
                   कीमतों का नमूना तो देखिए-
                   दाल, सब्जी, चार चपाती, चावल या पुलाव, दही और सलाद के साथ शाकाहारी थाली                                 12.50 रुपये
                   मांसाहारी थाली ---    22 रुपये
                   दही चावल  ---       11 रुपये 
                   वेज पुलाव   ---    आठ रुपये, 
                   चिकन बिरयानी--- 34 रुपये,
                   फिश करी,चावल ---13 रुपये,
                   राजमा चावल  ---  सात रुपये, 
                   चिकन करी ---20.50 रुपये
                   चिकन मसाला --24.50 रुपये 
                   बटर चिकन --- 27 रुपये
                   चपाती --- १ रुपये
                   एक प्लेट चावल ---२ रुपये
                   डोसा ----४ रुपये
                   खीर ----- 5.50 रुपये कटोरी
                   छोटा फ्रूट केक ---- 9.50 रुपये
                   फ्रूट सलाद ----७.००रुपये 
                                   ध्यान रहे ये कीमत उन लोगों के लिए है जिनकी महीने की तनख्वाह करीब 5०,०००  रुपये है.... और ये तो सफ़ेद कमाई है, काले धन का तो पता ही नहीं....
                  न जाने ये कैसे विडंबना है | ऐसा नहीं कि ये खबर मीडिया से दूर है लेकिन जो पत्रकार यहाँ खुद छककर भोजन करते हैं वो भला क्यूँ इसे मुख्य खबर बनायेंगे | कैंटीन के कर्मचारी बताते हैं कि हाल ही में ख़त्म हुए शीतकालीन सत्र के दौरान प्रतिदिन यहाँ औसत रूप से ३००० लोगों को दिन का खाना परोसा गया |
                 
                 

41 comments:

  1. अरे गरीब ही तो देश की सेवा करते हैं ....उनका अपना कुछ नहीं सब देश का खाते हैं ...वाकी सबको पता है ..और आपने बता दिया

    ReplyDelete
  2. शेखर जी आपका पुराना ब्लॉग मिल गया है बधाई स्वीकारें ! वहीं से इस नये ब्लॉग का पता मिला और चला आया , संसद की मूल्य सूचि देखी तो लगा की आज भी राम राज्य यदि कहीं है तो ....... यही है ....यही है.....यही है ............ ,
    अछि पोस्ट हेतु आभार ...................

    ReplyDelete
  3. अरे वाह ब्लॉग मिल गया ...बधाई..

    ReplyDelete
  4. हाँ शिखा दीदी
    ब्लॉग तो मिल गया, लेकिन तनिक इन गरीब नेताओं के बारे में भी कुछ कह दीजिये....:)इनकी गरीबी हमसे देखी नहीं जा रही है....:P

    ReplyDelete
  5. ये खबर जहाँ तक याद है, इण्डिया टुडे में श्यामलाल यादव जी के हवाले से पढ़ी थी और अब यहाँ भी पढ़ा...वाकई एक देश में दो पैमाने...अच्छी पोस्ट.

    ReplyDelete
  6. हाय .. कैसी विडंबना
    सचमुच बहुत अफसोसजनक बात है
    जनता के इन कर्मठ और सच्चे सेवकों को मुफ्त में मिलना चाहिए

    ReplyDelete
  7. जी हाँ कृष्ण कुमार जी...
    ये खबर इक्का-दुक्का जगह मुझे पढने को मिली,
    लेकिन रोज ३ घंटे सास-बहु और साजिश दिखाने वाला इलेक्ट्रोनिक मिडिया इसे उतनी बड़ी खबर नहीं समझता...
    आखिर उनके पत्रकार भी तो वहीँ खाना खाते हैं....

    ReplyDelete
  8. प्रकाश जी ऐसे सेवकों को मुफ्त में खाने के साथ जनता की पिटाई की ज़रुरत भी है...
    क्या उन्हें शर्म भी नहीं आती...सच में बड़े बेशर्म होते हैं वो....
    मैं कभी नेताओं के खिलाफ नहीं बोलता, क्यूंकि बोलना बेकार ही लगता है...लेकिन दुःख इस बात का है कि मीडिया भी अपना मुंह छुपाता फिर रहा है....

    ReplyDelete
  9. सचमुच बहुत अफसोसजनक बात है हमारे गरीब सांसदों के लिए| आभार|

    ReplyDelete
  10. shekhar ji neta ka pet to poora bhara hota hai bhojan ki jagah hi nahi rahti hai

    ReplyDelete
  11. hmmm ye maine bahut pehle hi padha tha... kahin kisi aur jagah yaad nahi....lekin yahan charcha ka vishay bana kar prastut karne ke liye badhaayi......

    ReplyDelete
  12. मेरे ख्याल से ऐसे गरीबों को को मुफ्त में ही भोजन दे देना चाहिए...
    कितना मेहनत करते है ये बेचारे ..एक-दूसरे की टांग खींचते है ,घोटालेबाजी करते है ,

    ReplyDelete
  13. हमारे देश यदि कोई गरीब और भूखा है तो बस नेता है जब इन्हे भूख लगती है तो चारा, स्पेक्ट्रम, खेल का सामान और भी न जाने क्या क्या खा जाते है। इसलिए सरकार ने इन लोगो की गरीबी व भूखमरी को ध्यान मे रखते हुए बहुत सस्ता खाना देने का संकल्प लिया है
    देश की बाकी जनता तो जैसे तैसे करके अपना पेट भर ही लेगी

    ReplyDelete
  14. इन नेताओं को ये खाना हज़म कैसे हो जाता है....
    खून खौल उठता है...
    साथ में छपी रेट लिस्ट भी देखें जिस में हम लोग खाते हैं....

    ReplyDelete
  15. नहीं शेखर जी मीडिया को इतना ना गरियाइए वो कई बार ये खबर दिखा चुकि है किन्तु गैंडे की खाल को मात देने वाली चमड़ी लेकर पैदा होने वाले नेताओ पर इसका कोई असर ही नहीं होता है लगता है मिश्र की मिश्री यहाँ भी घोलनी पड़ेगी |

    ReplyDelete
  16. मैं हैरान हूँ ये सब जान कर ... सच में क्या इन नेताओं को शर्म नहीं आती ..

    ReplyDelete
  17. मिस्त्र के लोग केवल तीस साल के तानाशाही 'मुबारक' शासन से आजिज आकर सड़कों पर उतर आये......ट्यूनीशिया की आवाम ने बेन 'तानाशाह' अली को देश से बाहर फेंक दिया और..............हम...????

    ReplyDelete
  18. इनके लिए इस देश में कभी मंहगाई नहीं होगी...... शायद इसीलिए आम आदमी का दर्द समझ नहीं आता इन्हें...

    ReplyDelete
  19. आशा है, जो संसद में होगा वह सड़‍कों तक भी आएगा.

    ReplyDelete
  20. गलती मीडिया की नहीं है, गलती जनता की है ...

    ReplyDelete
  21. i agree with ashish mishra....inhein free mein hi de dena chahiye....taki inhein chiller jutaane ki mehnat na karni pade.....losers...!!

    ReplyDelete
  22. इन्द्रनील जी,
    गलती तो सबकी बराबर है चाहे वो नेता हों, पत्रकार हो या हम.....
    लेकिन कुछ चीजों में हम छह कर भी कुछ नहीं कर सकते....इतनी समझ तो हमारे संविधान निर्मातों को होनी चाहिए थी....
    उन्होंने न जाने कितने loop-holes छोड़ दिए हैं....जिसका फायदा आज सब उठाराहे हैं...

    ReplyDelete
  23. इन्द्रनील जी,
    गलती तो सबकी बराबर है चाहे वो नेता हों, पत्रकार हो या हम.....
    लेकिन कुछ चीजों में हम छह कर भी कुछ नहीं कर सकते....इतनी समझ तो हमारे संविधान निर्मातों को होनी चाहिए थी....
    उन्होंने न जाने कितने loop-holes छोड़ दिए हैं....जिसका फायदा आज सब उठाराहे हैं...

    आपका कहना सही है शेखर जी

    ReplyDelete

  24. बेहतरीन पोस्ट लेखन के लिए बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है - पधारें - ठन-ठन गोपाल - क्या हमारे सांसद इतने गरीब हैं - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

    ReplyDelete
  25. पैसा तो स्विस बैंकों मे भेजना होता है इस लिये उनकी तंगी को देख कर ही सरकार ने ये उपाय निकाला है। अच्छी पोस्ट। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  26. har baat ko mix up kar ke nahi rakh sakte...hame lagta hai inn canteen se hame koi problem nahi hona chahiye basharte neta desh ke liye dil se sochen........:)

    ReplyDelete
  27. मुकेश भैया....
    लेकिन क्यूँ ??? आखिर क्यूँ उन्हें सस्ता खान दिया जाए, उन्हें किस बात की कमी है...
    सस्ता खाना तो उन्हें मिलना चाहिए जो गरीब हैं न की उन्हें जो लाखों करोड़ों रुपये की संपत्ति के मालिक हों...

    ReplyDelete
  28. अरे भाई स्विस बैंक को दिवालिया घोषित करवाना है क्या............ ये पैसे बचाकर वही तो जमा करते है.

    ReplyDelete
  29. ये ग़रीब आपको श्राप दे देंगे

    ReplyDelete
  30. हद है भाई ...
    होटल मे 65 रुपये की दाल 7 रुपये की रोटी?
    हम न नेता हुए न पत्रकार है न किस्मत खोटी ?

    ReplyDelete
  31. पद्म जी
    हम तो अगर महीने में ३-४ दिन बाहर खा लें तो महीने का बजट बिगड़ जाता है....

    ReplyDelete
  32. शेखर,
    कहीं कोई पार्टी तुम्हारे खिलाफ मोर्चा ना निकल बैठे....
    'जनतंत्र-विरोधी शेखर हाय हाय'
    हा हा हा....
    ऑन ए मोर सिरियस नोट: बात तुम्हारी वैलिड है.
    आशीष

    ReplyDelete
  33. सच है ...पता नहीं कब आएंगे वो दिन जो इस रेट में गरीब भी खाना खा पाए सपना सा लगता है !

    --------
    मेरी बदमाशियां......
    http://rimjhim2010.blogspot.com/

    ReplyDelete
  34. शायद इसीलिए नेताओं को पता नहीं चलता की जरूरत की चीज़ों के दाम बढ़ गए हैं .....

    ReplyDelete
  35. ये सबसे ज्यादा गरीब है ये दाल चावल ही नहीं देश की जनता का खून भी पिते है फिर भी इनका पेट नहीं भरता है

    ReplyDelete
  36. मुझे कोई आपत्ति नहीं है।
    उन्हें मुफ़्त में खाना खिलाइए।
    बस एक शर्त पर।

    जैसे तमिलनाड के स्कूलों में mid day meal केवल उन बच्चों को परोसा जाता है, जो स्कूल आते हैं, यह कैन्टीन केवल उन सांसदों के लिए होना चाहिए जो सत्र पूरा attend करते हैं और जो शोरगुल नहीं करते, walk out नहीं करते, एक दूसरे पर चप्पल नहीं फ़ेंकते। खाने के कूपन स्पीकर महोदय के पास होने चाहिये और स्पीकर अपनी मर्जी से इन सांसदों को ये कूपन देंगे, ठीक समय पर यानी दिन में १ बजे के बाद। यह कूपन non transferable हो!

    कोई बिल पास होने पार सब सांसदों को Ice cream भी मुफ़्त में खिलाया जाए।
    इन मामलों पर स्पीकर का निर्णय अंतिम होगा और कोई अपील entertain नहीं की जाएगी।
    इस सुझाव को अमल कीजिए, और फ़िर देखिए, संसद में नया वातावरण!
    देश का अवश्य कल्याण होगा।

    बहुत दिन बाद आप फ़िर से सक्रिय हो रहे हैं
    आशा करता हूँ कि आपका स्वास्थ्य अब ठीक है और आप फ़िरसे नियमित रूप से लिखते रहेंगे।
    शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...