Friday, February 25, 2011

ममता बनर्जी से मेरी अपील....

========================================================             
आज फेसबुक पर अपना स्टेटस और उसपर कमेन्ट लिखते लिखते लगा कि ये तो एक पोस्ट बन गयी.... तो सोचा यहाँ भी डाल ही दूं.. तो उसमे बिना कुछ जोड़े या घटाए पेश है ये चटपटी पोस्ट....
              मेरे फेसबूकिये दोस्त झेल चुके हैं आप भी झेलिये....
           हमारे पूजनीय नेताओं ने बज़ट सत्र के दौरान कहा कि भारत में भी टूरिस्ट ट्रेन चलनी चाहिए.
अमा यहाँ टूरिस्ट ट्रेन चलानी की ज़रुरत क्या है.. यहाँ तो एक्सप्रेस ट्रेन भी इतनी मस्तानी चाल से चलती हैं कि आप हर स्टेशन की खूबसूरती का मज़ा उठाते हुए अपना सफ़र पूरा कर सकते हैं.
कितनी अजीब बात है, एक तरफ जहाँ विश्व भर में २५०-३५० km की रफ़्तार से रेलगाड़ियाँ दौड़ती हैं वहीँ भारत की सबसे तेज ट्रेन भी बामुश्किल १०० का आंकड़ा छू पाती है.
              केवल ट्रेन की संख्या बढ़ाई जाती है हर बार....कभी गति बढ़ाने के बारे में कोई विचार नहीं होता.... अंग्रेज जैसा छोड़ कर गए थे सब कुछ वैसा ही है...
              आज का रेल बज़ट देखने के बाद ममता बनर्जी से मेरी कुछ गुज़ारिश है....  

१. ममता जी दोमंजिला ट्रेन चला रही हैं... हम तो कहते हैं अपार्टमेन्ट ट्रेन चलायी जाएँ... ताकि लोग अपने बिस्तर और रसोई के साथ सफ़र कर सकें....
२. हरियाणा सड़क परिवहन की तर्ज़ पर ट्रेन को भी हर घर के दरवाज़े से होते हुए पास कराया जाए...
३.बिहार सड़क परिवहन की तरह हर खिड़की के शीशे फोड़ दिए जायें, और सभी सीटों के गद्दे उखाड़ दिए जाएँ...
४.उत्तर प्रदेश बस की तरह देरी होने पर बस ड्राईवर और खलासी(गार्ड) को पीटने की इज़ाज़त दी जाए
५. कोलकाता की बसों की तरह ट्रेन के इंजन भी कम से कम ६० साल पुराने होने चाहिए ताकि उनसे ज्यादा से ज्यादा धुवाँ निकल सके...
६. डीटीसी की बसों की तरह ही ट्रेन को भी किसी को कुचल के आगे बढ़ने की आजादी मिले....
७. पंजाब रोडवेज की तरह ट्रेन ड्राईवर को भी शराब पीकर ट्रेन चलाने की इजाजत दी जाए ताकि गाडी की चाल और मस्तानी हो जाए....
८. बंगाल को इतनी रेलगाड़ियाँ देने के बाद एक ट्रेन आप अपने घर तक भी ले जा सकती हैं....
 =========================================================             Disclaimer :- ये सिर्फ मेरी निजी गुज़ारिश है अगर इससे किसी की भावनाओं को ठेस पहुँचती है तो क्षमाप्रार्थी हूँ...
 =========================================================

24 comments:

  1. हा हा हा हा हा हा

    शेखर भाई एक काम करो एक नया काल्पनिक बजट आप ही पेश कर डालो .....:)

    ReplyDelete
  2. ही ही ही खुरापात के लिए एक अदद दिमाग काफी है :)

    ReplyDelete
  3. देखिये! शायद दीदी मान जायें सारी नही तो एक आधी गुजारिश आपकी! मज़ेदार पोस्ट!

    ReplyDelete

  4. भई वाह...
    वाकई आनंद आ गया ..मस्त लिखते हो यार ! शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  5. बहुत मस्त लिखा है| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  6. shekhar jee baki satetes ke trains kaa bhi thoda bakhaan ker dejiy , kahi baaki states walo ko ye naa lage k mamaa ji k tarah aap bhi unake sath sautela waywhaar kar rahe ho .
    i enjoyed this ..

    ReplyDelete
  7. हमारे घर ट्रेन भेजने का प्राचधान है ना.

    ReplyDelete
  8. राहुल सर..
    अगर ममता दीदी मान गयी तो आपके घर भी ट्रेन भिजवा दी जाएगी.... :)
    अपर्णा जी...
    बाकी सारे स्टेट्स के बारे में भी लिखता लेकिन फेसबुक से जस का तस उठा कर रख दिया है.... :)
    these are live and instant thoughts....

    ReplyDelete
  9. शेखर जी

    जब १०० की स्पीड है तो आये दिन दुर्घटना होती रहती है स्पीड बढ़ेगी तो दुर्घटना की संख्या भी बढ़ेगी | मुंबई में औसतन रोज का ५-६ लोगो की मौत लोकल के निचे आ कर होती है | हरियाणा वाला सबसे अच्छा है और पंजाब वाला तो पहले से ही होता है उसकी मांग करने की जरुरत नहीं है यहाँ तो पायलेट भी एक पटियाला मार कर जहाज उड़ाते है |

    ReplyDelete
  10. शायद दीदी मान जायें सारी नही तो एक आधी गुजारिश आपकी! मज़ेदार पोस्ट

    ReplyDelete
  11. भई वाह...
    बहुत मस्त लिखा है|

    ReplyDelete
  12. आपकी गुजारिश दीदी तक जरूर पहुंचेगी :)
    आपकी गुजारिश नंबर एक, दो, चार और सात मस्त है
    बहुत मजा आया पढ़कर

    ReplyDelete
  13. अच्‍छी सलाह है। काश ममता बनर्जी की नजर इस पोस्‍ट पर पडे।

    ReplyDelete
  14. कमाल के सुझाव दिये हैं। बधाई।

    ReplyDelete
  15. धत्त तेरे की.... ई भुत तो सच्ची में बहुत खतरनाक है...देखो फसबूक से कूद कर ब्लॉग पे भी चला आया... आज के दौर में आदर्शवाद सबसे बड़ा पागलपन है...ये मुर्दा दौर है और इस दौर में खुद को जिन्दा रखना ही बड़ी बात है...अहसास जिन्दा रहें...

    ReplyDelete
  16. बड़े ही मजेदार सुझाव हैं, पर हर सुझाव में छुपा है एक कटु व्यंग... बड़ा अच्छा लगा आपका बेबाक अंदाज़...

    ReplyDelete
  17. Je baat.. hum to kehte hain k tumhe hi agla budget banane k kaam pe rakha jaye.. shayad tab hi kuchh bhala ho :P

    ReplyDelete
  18. अब तो अगले बजट तक इन्तेज़ार करना पड़ेगा. सुझाव तो अच्छे है.

    ReplyDelete
  19. हाहाहा... अच्छी लिस्ट निकली है शेखर जी .... ममता जी तक पहुंचा भी दीजिये ... :)

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब लिखा है...यूं ही लिखते रहे और कभी न कभी आवाज पहुंच जाएगी...
    बहुत सुंदर...मजा आ गया पढ़कर

    ReplyDelete
  21. shekhar ji bahut hi badhiya post dalte hain aap bahut hi majedaar.bahut hi mast.
    kaffi dino baad aapke blog par aai hun ,karan swasthy ki gadbadi rahi hai .
    atah dheere-dheere hi sbhi ke blog par pahunchne ki koshhi shh kar rah hun .
    is der ki vajah se xhma chahti hun .
    dhanyvaad
    poonam

    ReplyDelete
  22. भई वह आपके फोर्मुले तो इन राजनीती वालों पैर सटीक बैठते हैं. बहुत ढूँढने पर आपके ब्लॉग मिला है... अब फोलो कर रहा हूँ.. पुराने ब्लॉग का क्या हुआ ?!

    ReplyDelete
  23. ha ha ha aha ha aha aha aha aha aha aha aha aha aha ahaa ha ah aha ah aha.........................

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...