Monday, July 11, 2011

रेलवे के टेक्नीकल फॉल्ट को जबरदस्ती ड्राईवर के सर पर मढ़ा जा रहा है...

              कल कानपुर-फतेहपुर के बीच मलवां स्टेशन के पास कालका मेल दुर्घटनाग्रस्त हो गयी जिसमे अब तक करीब ९० लोगों की मृत्यु की सूचना है... उत्तर-मध्य रेलवे के महाप्रभंधक का कहना है की तेज गति में होने पर इमरजेंसी ब्रेक लगाने के कारण ये हादसा हुआ.... आईये देखें ये संभव क्यूँ नहीं है...
  1.    रेलवे आज से ५ साल पहले ही १५० की गति में ब्रेक लगाकर सफल परिक्षण कर चुका है...
  2.    चलिए अगर ये मान भी लें कि ब्रेक के कारण ये हादसा हुआ तो उस परिस्थिति में पीछे की बौगियाँ उतरतीं जबकि आगे की बौगियाँ दुर्घटना की शिकार हुयी हैं.. ये तो स्कूल तक की फिजिक्स पढने वाले भी जानते हैं के सबसे ज्यादा आघूर्ण (torque), center of rotation से सबसे दूर वाले बिंदु पर लगता है... तो पीछे की बौगियाँ ही सबसे पहले अपना स्थान छोड़ेंगी...
  3.      इस रेलगाड़ी में WAP 7 इंजन जुड़ा था, जिसकी टेक्नीकल स्पेसिफिकेशन अगर आप पढेंगे तो ये पायेंगे की ये इंजन ११० की गति से शुन्य तक की गति तक आने में केवल २०० सेकेण्ड का समय लेता है यानी कि करीब २९० मीटर तक चलने के बाद बिना किसी दुर्घटना के गाडी रुक जायेगी, बस हलके झटके लगेंगे...
              
                 तो हमारे ऊंचे पदों पर बैठे लोग ये जान लें कि हम यहाँ बेवकूफ नहीं बैठे जो वो अपनी गलती का ठेका उस ड्राईवर पर डाल दें सिर्फ इसलिए कि वो गरीब है और आवाज़ नहीं उठा सकता....
==================================================
                  इस दुर्घटना में मृत लोगों की आत्मा को शान्ति मिले और घायल लोग जल्द से जल्द स्वस्थ हों ऐसी कामना करता हूँ...

==================================================

14 comments:

  1. भाई शेखर जी आपने बहुत ही सही जानकारी दी है| बिना कारण ही एक बेचारे गरीब चालक को फंसाया जा रहा है| यह निंदनीय है|

    ReplyDelete
  2. ड्राइवर ने जो कहा है वह तकनीकी दृष्टि से ठीक है.ऐसे में उसे दोष देना बिलकुल भी उचित नहीं है.
    सही लिखा है आपने.

    सादर

    ReplyDelete
  3. हादसा बहुत ही दर्दनाक था। लेकिन जबरन किसी पर इल्जाम थोपना भी सही नहीं है।

    ReplyDelete
  4. जरुरी ये नहीं है की रेलवे के अधिकारी मीडिया या लोगों को दुर्घटना का क्या कारण बता रहे है जरुरी ये है की कम से कम वो अपनी निजी जाँच में सच को समझे उसे कबूले और उन गलतियों को दुबारा ना होने दे किन्तु जिस तरह से देश में रेल दुर्घटनाये हो रही है लगता नहीं की वो विभागीय रूप से भी इन दुर्घटनाओ की सही जाँच कर रहे है या फिर उनको दूर करने का कोई प्रयास कर रहे है |

    ReplyDelete
  5. aapka gour karnaa kabile taarif hai sachai phir kya hai?? kai sawaaL??

    ReplyDelete
  6. हमें तो जो बताया जाता है वही मानना पड़ता है ..सच क्या है पता नहीं. अच्छा लिखा है.

    ReplyDelete
  7. मीडिया को तो मसाला चाहिये, बस मौका लगा और चिल्लाने लगे.
    रेलवे की जब साल भर बात रिपोर्ट आयेगी तब मीडिया उसे नहीं दिखायेगा,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. सही बात है अन्याय का विरोध होना ही चाहिए ...शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  9. बह‍ुत ही अच्‍छा लिखा है ... ।

    ReplyDelete
  10. bilkul sahi..galat baaton kaa virodh honaa chaahiye...

    ReplyDelete
  11. Congrats you have been awarded :)

    http://aashishanant.blogspot.com/2011/07/award-night.html

    ReplyDelete
  12. सुमन जी,
    मेरे मन में भी कुछ विचार विकसित हो रहे हैं, कहता हूँ :
    आपने दुर्घटना का वास्तविक कारण पता लगाने को वैज्ञानिक विवेचन किया जो तकनीकी दृष्टि से सही लगता है किन्तु दुर्घटना का वास्तविक कारण सत्ता पक्ष के शीर्ष नेताओं की धूर्त राजनीति भी मानी जा सकती है.
    — मुझे तो इस घटना के पीछे ध्यान भ्रमित करने का 'पहला प्रयास' प्रतीत होता है. ... दूसरा प्रयास — मुम्बई बम कांड.
    आमजन अपने जीवन से जुड़े मसलों में उलझे रहें तो 'राष्ट्र हित' पर ध्यान नहीं दे पायेंगे और इस तरह मनमाने रूप से असंवैधानिक कार्य होते रहेंगे.

    ReplyDelete
  13. सही विवेचना एक अच्छी पोस्ट

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...