Wednesday, February 1, 2012

आत्महत्या, एक रास्ता भर है आजादी का...

        आत्महत्या को, खुद को खुद से आज़ाद करने की एक पहल के रूप में देखा जा सकता है... क्यूंकि इंसान कभी न कभी हार ही जाता है... कहते हैं ज़िन्दगी खुदा की दी गई खुबसूरत नेमत है. लेकिन जब इसकी ख़ूबसूरती से ही नफरत होने लगे तो.... आत्महत्या करने वालों को सब कायर कह देते हैं, लेकिन कभी गौर से सोचा तो जाना कि आत्महत्या करना भी अपने आप में कितनी हिम्मत से भरा फैसला है.... आखिर इस ज़िन्दगी से किसे लगाव नहीं होता, सभी इसे दिल से जीना चाहते हैं, इसकी धुन में मस्त होकर साथ साथ गाना चाहते हैं.... लेकिन जब ये मस्तानी धुन कानफाड़ू शोर में तब्दील हो जाए, तो सारे बंधन तोड़ कर बस आज़ाद होने का दिल करता है.... हालाँकि ये आजादी कभी भी किसी आशावादी इंसान को रास नहीं आएगी, लेकिन कभी न कभी जैसे हर चीज़ से नफरत होने लगती है... इंसान हर किसी से नफरत करके उबर सकता है, नए सिरे से जी सकता है... लेकिन अपने आप से जब नफरत होने लगे तो फिर और कुछ समझ नहीं आता... मैं आत्महत्या को किसी भी तौर पर सही नहीं ठहराना चाहता, बस उन सभी लोगों से सहानुभूति है जिन्होंने कई कठिन परिस्थितियों में अपनी ज़िन्दगी को ख़त्म करने का फैसला लिया... पता नहीं क्यूँ ये बात बहुत STRONGLY कहना चाहता हूँ कि वो कायर नहीं थे, बस उन्हें ज़िन्दगी जीने का हुनर नहीं आया... वो थक गए, अपने आप से, अपने सपनों से, अपनी ज़िन्दगी से....
           मुझे नहीं पता कि आपमें से कितने लोगों के जहन में कुछ लम्हों के लिए ही सही लेकिन कभी अपने आप को ख़त्म करने का ख्याल आया होगा, फिर भी मुझे लगता है कि शायद वो लोग अकेले नहीं हैं जो खुद अपने आप की नफरत के शिकार हो गए... मुझे डर है अपने आप से बढती हुई ये नफरत कहीं अपनी ही जान लेने पर मजबूर न कर एक दिन...
            इस पोस्ट पर आने वाली टिप्पणियों के प्रकार का पूर्वाभास है मुझे, इसलिए कृपया सहानुभूति या आशावादी बनने की प्रेरणा से भरी टिपण्णी न करें ... आपने पढ़ा आपका शुक्रिया...

43 comments:

  1. इस ज़िंदगी को जीने का और देखने का हर एक का अलग नज़रिया है जो जैसा अनुभव करता है वह उस ही तरह सोचता है जो लोग आत्महत्या करते हैं वो कहीं न कहीं अपनी ज़िंदगी में कुछ ऐसा अनुभव पाते हैं जिसके आगे उन्हें और कुछ नहीं दिखाई देता मैं भी यह नहीं कहती की आत्महत्या करने वाले कायर होते हैं लेकिन मैं यह भी नहीं मानती की वो स्वार्थी नहीं होते वो केवल अपने बारे में सोचते हैं इसलिए आत्मह्त्या ही उनको सबसे आसान तरीका नज़र आता होगा शायद इसलिए बिना अपने चाहने वालों की परवा किए वो अपना अस्तित्व मिटा दिया करते है। वो यह भूल जाते हैं उनकी ज़िंदगी पर केवल उनका ही अधीकार नहीं है औरों का भी है जिसका फैसला करने का अधिकार न केवल उनका अपना है बल्कि उनका भी है जिन्होने उन्हे यह ज़िंदगी दी थी कभी ....आपको सही लगे मेरी बात तो कमेंट रहने दे वरना हटा सकते है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी बात से सहमत हूँ कि ये ज़िन्दगी केवल उन्हीं की नहीं लेकिन फिर भी अंततः इस पर हक़ तो उन्हीं का है ...केवल वही हैं जो अपने ऊपर बीत रही कठिन परिस्थितियां झेल रहे हैं... इसलिए ये पूर्णतः उनका निर्णय होना चाहिए... किसी और के लिए खुद को ज़िन्दगी कि भट्टी में तपाये रखना कुछ महापुरुष कर सकते हैं लेकिन हर कोई नहीं.... हर कोई, हर वक़्त मानसिक तौर पर उतना सक्षम नहीं होता... कभी न कभी कमज़ोर पड़ ही जाता है....

      Delete
  2. वे कायर नहीं थे ...सहमत ..
    पर पूरी पोस्ट से - असहमत ..इन बोल्ड लेटर्स.

    ReplyDelete
    Replies
    1. कहीं न कहीं मैं भी अपनी इस पोस्ट से असहमत हूँ, लेकिन ये भी एक नजरिया है .... जो उन लोगों के हिसाब से सही जिन्होंने आत्महत्याएं की हैं....

      Delete
  3. आत्महत्या न कायरता है , न बहादुरी . यह डिप्रेशन का नतीज़ा है . समय रहते इलाज कराने से बचा जा सकता है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुछ चीजों को दवाईयां ठीक नहीं कर सकतीं सर जी.... ये ऐसी चीजें होती हैं जो खुशियों के थपेड़ों से ही ठीक होती हैं....

      Delete
    2. मांगने से चाँद नहीं मिलता बरखुरदार .
      हर बीमारी का इलाज दवा नहीं होती . लकिन दवा के बिना भी इलाज होता है .
      पढ़ लिख कर जिंदगी क यूँ न उलझाओ .
      जिस मां की इतनी याद आ रही थी , उसका ख्याल करो .
      सब्र रखो . समय आने पर खुशियाँ अपने आप आ जाएँगी .

      Delete
    3. kahne ko bahut kuch hai mere paas, lekin bekar ki bahas mein nahi padna chahta.. maine bas is post ke zariye ek nazaria rakha tha... warna na hi main depressed hoon aur na mujhe kisi tarah ki khushiyon ka intzaar... aur agar kabhi mujhe aatmhatya karni bhi padi to kisi se ray maangne nahin jaaunga....

      Delete
  4. इस पर टिप्पणी के लिए तो पोस्ट से भी ज़्यादा जगह चाहिए... इसलिए सवाल के जवाब में रविन्द्र कुमार शर्मा जी का ये शेर कहना चाहूँगा:
    ऐ इमारत कूदने वाले से ये तो पूछती,
    ज़िंदगी से क्यों तुझे आसान मर जाना लगा!

    ReplyDelete
    Replies
    1. कभी कभी एक घुटती हुयी ज़िन्दगी के बजाय एक आसान मौत चुनना सही लगता है....

      Delete
  5. सरजी, नहीं मालूम कि आप मेरी टिपण्णी को सहानुभूति के तौर पर लेते है अथवा आशावादिता के तौर पर, लेकिन कहूंगा जरूर कि आजादी का अर्थ होता है आगे मिलने वाला फायदा / स्वछंदता, लेकिन यहाँ सबसे बड़ा सवाल यह है कि आत्महत्या के बाद कौन सी स्वच्छंदता और फायदा मिलता है ये तो आज तक किसी को मालूम नहीं पडा और यही एक बिंदु आत्महत्या को सही ठहराने के मार्ग में बाधक है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस बात का तो पता नहीं मृत्यु के बाद क्या होता है, लेकिन अगर कोई ज़िन्दगी के मायनों में उलझ कर रह गया हो तो उसे कुछ समझ नहीं आता... बात न ही फायदे की है और न ही नुक्सान की, बात है थक जाने की, हार जाने की....

      Delete
  6. हाँ...जिन्होंने आत्महत्या की...बेशक वे कायर नहीं थे..
    मगर कमज़ोर ज़रूर थे..

    जिया ही ना जा सके ऐसा तो संभव नहीं...हाँ कमतर हो सकती है जिंदगी ..आपकी उम्मीदों से ..and u never know the future...so why to die????

    ReplyDelete
    Replies
    1. ya we never know the future, but itz all about present... sometimes those kind of circumstances arrive when our past and present forces anyone to decide whether to wait for the future or not....

      Delete
  7. सहमत...
    कोई व्यक्ति अगर हम जैसी मानसिक स्थिति मे होगा तो आत्महत्या करेगा ही क्यों... जब तक उसकी मनःस्थिति मे न घुटा जाय शायद उसकी स्थिति का अनुमान लगाना कठिन है... हम उसे कायर भी कह सकते हैं मगर जब सहन करने की सीमा समाप्त हो जाती है तो .....!!
    यद्यपि फिलहाल इस समय मै इसे उचित नहीं मानता हूँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी टिपण्णी से थोड़ी राहत मिली, ऐसा लगा जैसे कोई तो है जो इस पोस्ट का मर्म समझ रहा है.... सच में बाहर से किसी चीज़ पर अपने Experts Comments देना बहुत आसान है, लेकिन उस इंसान की मानसिक स्थिति को समझते हुए जीना बहुत मुश्किल...

      Delete
  8. Kai baar mar jane ka khayaal aaya... lekin 2 din baad hi laga k sahi tha jo khayaal khhayaal hi raha varna bahut kuchh miss ho jata....
    magar ye bhi shayad sahi h k ye khayaal sabke zehan me kabhi na kabhi to aata hi hoga....

    ReplyDelete
    Replies
    1. सब के मन में आता ही होगा, खैर तूने अच्छा ही किया... तेरा होना बहुत मायने रखता है बहुत लोगों के लिए... और शायद मेरा होना भी तभी तो आज तक जिंदा हैं हम दोनों.. :P

      Delete
    2. आत्महत्या करने वाला इन्सान खुद भले ही आजाद हो जाये पर वो अपने पीछे न जाने कितने लोगो को तिल तिल मरने के लिए छोड़ जाता है ,इस तरह का ख्याल लाने से पहले हमें उन सब लोगो का ख्याल कर लेना चाहिए जो शायद इस बात को सहन नहीं कर पायेगे.....

      Delete
    3. मेरे इस ख्याल को लहू बनने में वक़्त लगेगा शायद, क्यूंकि अभी दुनिया में बहुत ऐसे लोग हैं जिनसे मैं बेइंतहा मोहब्बत करता हूँ और उन्हें ज़िन्दगी भर हँसते हुए देखना चाहता हूँ... शायद उनकी हंसी के लिए कुछ कर पाऊं... हाँ हो सकता है ज़िन्दगी के कभी किसी मोड़ पर ये फैसला लेने की हिम्मत जुटानी पड़े... लेकिन तब तक तो मुझे झेलना ही पड़ेगा...

      Delete
  9. Aisi to koi Zindagi hi nahi ho sakti jismein mushkilen na ho, Andhera na ho... Socho zara duniya ki shuruaat mein kuchh nahi tha, tab kitni kathin hogi life... Lekin tab logo ne Atmhatya nahi balki koshish ko apnaya, pareshaniyo se nijaat paane ke liye... Har voh mod jo band deekhta hai, akheer mein dusra raaste se mil hota hai...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Sorry, mobile se type kiya hai, isliye sahi se nahi kar paayaa hoon... Signal bhi kam hain, yahan...

      Delete
    2. शाहनवाज़ भाई, कई दिनों बाद आपको ब्लॉग पर देखकर अच्छा लगा... और आपकी टिपण्णी से प्रभावित भी हुआ... सच में वो बहुत हिम्मत वाले होंगे जो उन परिस्थितियों में भी लड़ते रहे... लेकिन आज इंसान कमज़ोर होता जा रहा है.... पहले लोग भूख के कारण आत्महत्या करते थे, लेकिन आज कमज़ोर पड़ जाते हैं ज़िन्दगी के कई मोड़ पर... खैर आपकी टिपण्णी के लिए आभारी हूँ... बहुत कुछ सिखा जाती है आपकी ये छोटी सी टिपण्णी.. आते रहिएगा....

      Delete
    3. कठिनाइयाँ तो झेली जा सकती हैं परन्तु बेरुखी, और ज़िल्लत नहीं वो भी तब जब ज़िल्लत का बोझ अंतरात्मा पर हो,और जो दिलाज़िज़ इसका कारन हे वो ये सब जानते हुए भी कभी ये कोशिश नहीं करता के एक इंसान को बचने की कोशिश की जाये

      Delete
  10. बहुत अजीब सी धारणा हैं इस जीवन की ...टिप्पणी का ...या कुछ कहने का महत्व ही नहीं हैं यहाँ तो ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. अंजू जी, हर बात का महत्व है... शायद आपके द्वारा कहा गया एक वाक्य किसी की ज़िन्दगी बदल सके....

      Delete
  11. कई बार मेरे दिल में भी ये ख्याल आया पर जब दुनिया को पास से देखा और समझने की कोशिस की तो पता चला जिस दुःख की वजह से मैंने मरने का इरादा कर लिया वो तो कुछ भी नहीं है ,इस दुनिया में कितने दुःख हैं किसी की माँ नहीं पिता नहीं तो किसी को भगवान ने हाथ पैर नहीं दिए .जब वो मुझसे बेहतर जिंदगी जी सकते है तो मै क्यों नहीं और शायद मेरा जन्म औरो की जिंदगी सवारने के लिए हुआ हो ........

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज़िन्दगी को जीने के कई तरीके होते हैं, सब अपने तरीके से जीते हैं... बस जिंदा रहने के लिए ज़रूरी है तो कोई मकसद, कोई उम्मीद... जिस दिन भी ये सब दिखना धूमिल हो जाता है उस दिन इंसान अलविदा कहने का फैसला लेता है... अक्सर लोग एक झोंके में अपनी ज़िन्दगी ख़त्म कर देते हैं लेकिन कभी कभी आत्महत्या भी काफी सोच समझ के उठाया गया कदम होता है... और ऐसे उठाये गए कदम को उसकी कमजोरी न समझते हुए स्वीकार करना चाहिए... दूसरों के लिए जीना वाकई में बहुत हिम्मत वाला काम है लेकिन ऐसा कभी कभी ज्यादा खतरनाक हो सकता है.... अपनी पूरी ज़िन्दगी वही जी पता है जो अपने लिए जीता है..... सिर्फ अपने लिए....

      Delete
    2. कोई किसी के आत्महत्या के फैसले को कैसे स्वीकार कर सकता है भला, क्या आप कर सकते हो ?

      Delete
    3. इस प्रश्न का उत्तर बहुत कठिन है मेरे लिए... बहुत ही कठिन... लेकिन अगर मैं उसकी कोई मदद नहीं कर सकता तो शायद हाँ....

      Delete
  12. एक खास लम्हा एक खास पल होता है जब ऐसा ख्याल आता है उस वक़्त दिल कहता है हम सही हैं और इंसान कर जाता है तो कर जाता है लेकिन जब ये पल बीत जाता है तब उसके अहसास कुछ अलग होते होंगे... हाँ ये हम भी मानते हैं,ये एक रास्ता भर है आजादी का...

    ReplyDelete
  13. खुदकुशी एक रास्ता है खुदखुशी का
    पर परिजनों के लिए दारुण दु:ख का।

    ReplyDelete
  14. आपसे सहमत नहीं हूँ, जितना न होने पर कोई एक आत्महत्या कर लेता है, उतना ही होना लोग अपना सौभाग्य मानते हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बात वहीँ आके अटक गयी, हो सकता है मुझे जितना मिला है मैं उसमे खुश हूँ... लेकिन कई जैसे लोग होंगे जो मुझसे ज्यादा पाकर भी खुश न हों... सब के अपने अपने सपने होते हैं....और कुछ लोग वो सपने टूटते हुए नहीं देख पाते....

      Delete
  15. shekhar ji
    main aapki baat se sahmat hun.
    har khud kushi karne wala insaah kayar nahi hotapar kabhi kabhi paristhitiyan use majbur kar deti hainyah kadam uthane ke liye.
    sach me inhi ke chalte fir vo apne aage -peechhe ki nahi soch paata.par kar gujarne ke baad kuchh wapas lout ke nahi aata.albatta uska khamiyaza auron ko bhugatna padta hai.
    poonam

    ReplyDelete
    Replies
    1. बात यही है कि वहां से कोई लौट नहीं सकता, इसलिए आत्महत्या का निर्णय काफी सोच समझ कर और ठन्डे दिमाग से लिया जाए तो बेहतर होता है...

      Delete
    2. aatmahatya ka nirnay kaise bhi liya to behatar nahi ho sakta?fir wo thande dimag se ho ya ......garam...

      Delete
    3. पूनम जी आप यक़ीनन ठीक कह रही हैं परन्तु एक बार उस शख्श से मिल कर देखिये जो आत्महत्या करने का मन बना चूका हो क्युकी मेरा मानना हे की जितना सोच विचार मरने वाला करता हे उतना कोई और नहीं, क्युकी आत्महत्या का फैसला भी कठिन हे और आत्महत्या करना भी

      Delete
  16. कुछ बातों का कोई कारण नहीं होता, और पछताने के लिए वो जिंदा भी तो नहीं रहता... जैसा कि मैंने कहा ये तो एक रास्ता भर है खुद कि आजादी का...

    ReplyDelete
  17. आत्महत्या नहीं करनी चाहिए , पर जब आत्मा की हत्या हो जाए या दिल दिमाग भय से कार्य करना छोड़ दे तो .... यह सोच समझकर होता ही नहीं

    ReplyDelete
  18. सही है तकलीफों से मुक्ति का मार्ग है जीवन पर तो स्वम का अधिकार नहीं होता परन्तु मृत्यू पर तो हो

    ReplyDelete
  19. सही है तकलीफों से मुक्ति का मार्ग है जीवन पर तो स्वम का अधिकार नहीं होता परन्तु मृत्यू पर तो हो

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...