Friday, August 24, 2012

मुझे मत ढूँढना...

मुझे इन पन्नो पर मत ढूँढना,
यहाँ तो केवल मेरे कुछ पुराने शब्द पड़े हैं
वो शब्द जो मैं अक्सर
इस्तेमाल कर किया करता था,
वो शब्द जो कभी बयान करते थे
मेरी खामोशियाँ, मेरी तन्हाईयाँ...
वो अब पुराने पड़ चुके हैं
अपना वजूद खो चुके हैं...

मुझे इन हथेलियों पर मत ढूँढना,
यहाँ तो बस
कुछ आरी-तिरछी लकीरें हैं मेरी
जिनके सहारे कभी
मेरा नसीब चला करता था
ये लकीरें अब धुंधली पड़ चुकी हैं
उनसे मेरा अब कोई जुड़ाव नहीं....

मैं तुम्हें कहीं नहीं मिलूंगा,
मैं तो कब का निकल चुका हूँ
अपने अकेलेपन को ज़मीन के किसी कोने में दबाकर,
अपनी इस उदास सी रूह को समेटकर
इस बेदिल दुनिया से बहुत दूर,
किसी निर्जन स्थान पर...

33 comments:

  1. ufff.............. kehna kya chahte ho..... tumhe dhoondhe ya nahin dhoondhe?

    ReplyDelete
    Replies
    1. raah bhul gayaa ho use dhundhaa jaa sakataa hai ,dhundhanaa bhi chahiye ....
      jo chhipane kaa koshish kare use dhundhanaa bebkuphi hai (*_*)

      Delete
  2. अब तो निर्जन भी कहीं नहीं ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. मुझे मत ढूँढना...

    I Liked very Much Yaar......
    And shared it on FB also

    ReplyDelete
  4. मैं जब स्वयं खो जाता हूँ तो सोचता हूँ कि कहाँ खोजूँ।

    ReplyDelete
  5. बहुत भावमयी अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  6. भावमयी अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  7. पगला गया है का रे ????

    ReplyDelete
  8. कल 26/08/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. मैं तो कब का निकल चुका हूँ
    अपने अकेलेपन को ज़मीन के किसी कोने में दबाकर,
    अपनी इस उदास सी रूह को समेटकर ...

    bahut sundar...

    ReplyDelete
  10. मैं तुम्हें कहीं नहीं मिलूंगा,
    मैं तो कब का निकल चुका हूँ
    अपने अकेलेपन को ज़मीन के किसी कोने में दबाकर,
    अपनी इस उदास सी रूह को समेटकर
    इस बेदिल दुनिया से बहुत दूर,
    किसी निर्जन स्थान पर...
    फिर ये शब्द , हमारी दुनिया में क्यों उत्पात मचा रहे हैं ?
    हमारी शांत जिंदगी में हलचल क्यूँ पैदा की ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. शब्द ही तो हैं .. नादान हैं बेचारे... उनकी तरफ से माफ़ी ... :-/

      Delete
  11. नमस्ते

    हैलो, यहाँ ब्राजील से अपने ब्लॉग अभिवादन का दौरा

    ReplyDelete
  12. गलतियों की भाषा के बारे में खेद है

    ReplyDelete
  13. प्रबल भाव ...
    अच्छी रचना ...
    शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  14. जब मैं ना रहूँ, तो मेरी कब्र पर (आग से बहुत डर लगता है मुझे, जीती जी भी और मरने की बाद तो और भी) ये नज़्म लिखवा देना.. तुम्हारे सलिल चचा को ये सबसे अच्छी श्रद्धांजलि होगी- An Epitaph!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. वैसे तो ये कमेन्ट अपने आप में एक बेहतरीन तारीफ है इस बेकार सी नज़्म की, लेकिन ऐसे बातें मत किया कीजिये... इस नज़्म को ऐसे ही लपेट कर भिजवा दूंगा आपके जन्मदिन के दिन... लव यू....

      Delete
  15. उफ़ ………इतना दर्द , इतनी संजीदगी, इतनी निर्लेपता

    ReplyDelete
  16. इंसान उन्ही पन्नों में उन्ही शब्दों में मिलता है ... वो कहीं जा नहीं पाता उनसे पीछा छुडा के ... एहसास में डूबी रचना ...

    ReplyDelete
  17. बहुत दर्द है भाई

    ReplyDelete
  18. वाह, बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  19. मैं तुम्हें कहीं नहीं मिलूंगा,
    मैं तो कब का निकल चुका हूँ
    अपने अकेलेपन को ज़मीन के किसी कोने में दबाकर,
    अपनी इस उदास सी रूह को समेटकर
    इस बेदिल दुनिया से बहुत दूर,
    किसी निर्जन स्थान पर...
    bauhat khoob!!

    ReplyDelete
  20. ख़ूबसूरत कविता...
    अच्छा लगा आपके लिखने का अंदाज...

    ReplyDelete
  21. Very well written, nice thoughts Shekhu

    ReplyDelete
  22. बहुत खूब! ये कविता पढ़कर नंदनजी की ये लाइने याद आ गयीं:
    मुझे स्याहियों में न पाओगे, मैं मिलूंगा लफ़्जों की धूप में,
    मुझे रोशनी की है जुस्तजू, मैं किरन-किरन में बिखर गया।

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...