Thursday, January 20, 2011

नयी दुनिया...

ये कैसी दुनिया है,
जहाँ मनुष्य ही मनुष्य का दुश्मन है,
कैसा शोर है ये चारो तरफ
जहाँ पंछियों की चहचहाहट सुनाई नहीं देती,
यह कैसी लालिमा है रक्त की,
जिसके आगे सृष्टि के सुन्दर नज़ारे धूमिल हो गए...
कैसी छींटें पड़ी हैं ये शरीर पर,
यह होली रंगों की तो नहीं है शायद,
ये कैसी भीड़ है जहाँ अपने बेगाने हो गए...
क्यूँ आज इंसान इंसान से डरता है,
ह्रदय की कोमल धरा पर यह कांटे क्यूँ उग आये हैं,
जीवन के मायने कुछ बदल से गए हैं,
अब अपनी जीत शायद दूसरों की हार में है,
आखिर यह संघर्ष क्यूँ ? ? ?
क्या है इस वर्चस्व की लड़ाई का मतलब ? ? ?
इस धरती का सुन्दर गुलशन
शायद बंजर हो चला है...
यह वो दुनिया तो नहीं जो ईश्वर ने बनायीं थी,
यह तो कोई और ही नयी दुनिया है....

74 comments:

  1. Sach mein so realistic..... ppl, save this world.........

    ReplyDelete
  2. the world has changed and become so inhumane.ur poem depicts the world of today

    ReplyDelete
  3. sach kaha sirji...ye duniya agar mil bhi jaye to kya hai...

    ReplyDelete
  4. yah nai duniya sabke aage ek prashn liye khdee hai, ek hi sawaal... ye kya hai, hum kahan aa gaye?
    bahut hi sachche ehsaason ko likha hai

    ReplyDelete
  5. अब अपनी जीत शायद दूसरों की हार में है

    yah panktee nahin pathar par khudee dardnak haqiqat hai.
    Nice

    ReplyDelete
  6. behad khubsurat blog hain aapka..aur utna hi khubsurat aap likhte bhi hain.....ye nayi duniya jaise bhi hain hum bhi ab to iska hissa ban chuuke hain...na jaane kyon///

    ReplyDelete
  7. सच कहा आपने यह तो कोई और ही दुनिया है ....जहाँ चिड़ियों की चहचहाहट नहीं बम और बंदूकों की आवाज है !बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ! बधाई !

    ReplyDelete
  8. वाकई!!! यह नयी दुनिया..


    बेहतरीन अभिव्यक्ति..बधाई.

    ReplyDelete
  9. sahi kaha apne bilkul sahi....yeh aisi duniya nahi....jahan hame pyar batna chahiyee...wahan abb bass nafrat aur ek dusre say agee nikal jane ki hod hai bass

    ReplyDelete
  10. Yeh duniya oot-pataanga!
    Kitthe haath te kitthe taanga!
    Acchha likha hai!

    ReplyDelete
  11. badhiya likhte hian aap... jaari rakhen nikhaar hoti jayegi...


    arsh

    ReplyDelete
  12. Sir ji peshe se softwae engg hun aur aajkal bahut vyast bhi hun...par Hindi ke liye samay nikalna mera kartavya hai...jab bhi kabhi thoda samay milta hai..blogs check kar leta hun...aur waise likhne ka kram to neend me bhi chalta rehta hai...kai poems ahi jo bas sapne dekh kar hi likhi hai...

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब । आज के हालात को आईना दिखा दिया आपने ।

    ReplyDelete
  14. सुंदर रचना........

    और सच्चाई के करीब...........

    http://rajdarbaar.blogspot.com

    ReplyDelete
  15. Beautifully written. Bahut sahi kahaa hai aapne aajkal ki duniya ke baare mein.

    I have written a blog on Dowry system. Please visit and if possible leave a comment. Also if you feel like then take the pledge too. Here is the link.

    http://simplystayingalive.blogspot.com/

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छी रचना ।

    ReplyDelete
  17. शेखर भाई
    बहुत सुन्दर रचना
    बाकई कोई एसी जगह नहीं जहाँ सुकून हो
    बढ़िया विषय पर लिखा
    आभार .................................

    ReplyDelete
  18. Dear Shekhar,

    You have conveyed your feelings very beautifully in this poem. I liked it very much. :)

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुन्दरता से आपने सच्चाई को प्रस्तुत किया है! हर एक शब्द दिल को छू गयी! आपने बिल्कुल सही कहा है कि ये वो दुनिया नहीं है जिसे इश्वर ने बनाया है बल्कि ये कोई और ही दुनिया बन गयी है जहाँ सिर्फ़ खून खराबी, लड़ाई झगड़े इत्यादि होते हैं और इंसान ही दूसरे इंसान के दुश्मन बन जाते हैं!

    ReplyDelete
  20. achhi rachna hai .pasand aayi badhaiyan

    ReplyDelete
  21. एकदम सही लिखा अंकल जी. ..और भला आपसे कैसे नाराज़ हो सकती हूँ. आप तो मेरे लिए चाकलेट लेकर आएंगे.

    ____________________
    'पाखी की दुनिया' में माउन्ट हैरियट की सैर जरुर करें.

    ReplyDelete
  22. SHEKHAR BHAI MAI PICHE REH GYA SUNDER KAVITA PADHNE SE

    ReplyDelete
  23. Maaf kijiyga kai dino busy hone ke kaaran blog par nahi aa skaa

    ReplyDelete
  24. सच है जीवन के मायने बदल गये हैं .... इन्हे फिर से बदलना होगा ...

    ReplyDelete
  25. Hello,

    Bahut hi badiya topic!!
    Aur itni khoobi se likha hai aapne :)

    Very very good......

    Regards,
    Dimple
    http://poemshub.blogspot.com

    ReplyDelete
  26. Admi gar insaniyat bhool jaye to sabse adhik darawna prani hota hai..! Yah puratan saty hai,jise aapne bade hee khoobsarat tareeqese apni rachaname dhala hai..

    ReplyDelete
  27. बहुत सही कहा शेखर जी,
    बहुत सुन्दर कविता, बधाई.
    kuchh kahne ki anumati chahta hu.


    न जाने कैसी ये दुनिया हो गयी है, Facebook तो हजारो दोस्त हो गए हैं सबके, पर बगल में कौन रहता है पता नहीं,
    एक मेरा दोस्त "मुझसे" अब touch में नहीं, क्योकि हर दिन मै उसे scrap regular karta nahi...



    रविश तिवारी
    http://alfaazspecial.blogspot.com/

    ReplyDelete
  28. यही हकीकत है ....

    ReplyDelete
  29. डॉक्‍टर रूपी इंसान आपको स्‍वस्‍थ्‍य करने में मददगार हो, शुभकामनाओं सहित.

    ReplyDelete
  30. बहुत ही सुन्दरता से आपने सच्चाई को प्रस्तुत किया है

    ReplyDelete
  31. Great writing.
    Nowadays, I am distressed with the blog world also.
    Some of your lines apply to blogsphere too
    For example:

    -----------------
    ये कैसी दुनिया है,
    जहाँ मनुष्य ही मनुष्य का दुश्मन है,
    कैसा शोर है ये चारो तरफ
    -------------------------

    ==========
    ये कैसा ब्लॉग जगत है
    जहाँ ब्लॉग्गर ही ब्लॉग्गर का दुश्मन है
    कैसी अभद्र टिप्पणियाँ है चारों तरफ़
    ====================
    ----------------------------------------------
    क्यूँ आज इंसान इंसान से डरता है,
    -----------------------------------------------
    ===========
    क्यूँ आज ब्लॉग्गर ब्लॉग्गर से जलता है
    ================================
    --------------------------------------------
    यह वो दुनिया तो नहीं जो ईश्वर ने बनायीं थी,
    यह तो कोई और ही नयी दुनिया है...
    -----------------------------------
    ====================================
    यह वो दुनिआ तो नहीं जो टेक्नोलोजी ने हमें भेंट की
    यह तो कोई और ही नयी दुनिया है...
    =================================

    आप वाकई अच्छा लिखते हैं और हमें आपकी रचनाओं को पढना बहुत अच्छा लगता है
    शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  32. pukhraaj said...

    यही हकीकत है ....
    Sunday, April 25, 2010 6:52:00 AM GMT+05:30

    क्या बात है शेखर भाई पुराने कमेंट उठा कर इस पोस्ट मे लगा दिया, अपने आप ही कमेंट करने लगे हो अपनी पोस्ट पर

    लगे रहो भाई ...

    अल्लाह आपको जल्द स्वस्थ्य लाभ दे

    ReplyDelete
  33. बहुत अच्छी रचना ।

    get well soon.

    ReplyDelete
  34. ऊपर की सभी टिप्पणियॉ मे तारीख अप्रेल की है

    ReplyDelete
  35. इस धरती का सुन्दर गुलशन
    शायद बंजर हो चला है...
    यह वो दुनिया तो नहीं जो ईश्वर ने बनायीं थी,
    यह तो कोई और ही नयी दुनिया है.........bahut badhiya.

    ReplyDelete
  36. क्या करे सब इन्सान जो है इंसानी बुराइया कहा जाएँगी | अच्छी कविता |

    ReplyDelete
  37. @ बंटी...
    जी हाँ क्यूंकि कविता भी अप्रैल की ही है, मैंने लिखा भी है पुरानी कविता....
    पुराने वाले ब्लॉग की कुछ चुनिन्दा रचनायें दुबारा प्रकाशित कर रहा हूँ तो सोचा टिप्पणियाँ क्यूँ छोड़ी जायें...
    आपको कोई आपत्ति है ????
    है भी तो मेरी बला से....

    ReplyDelete
  38. आज की दुनिया की सच्चाई प्रस्तुत की हैं
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  39. ये कहाँ आ गए हम...सच्ची कविता.

    ReplyDelete
  40. नहीं शेखर भाई , भला हमे क्या आपत्ति हो सकती है , ब्लॉग आपका है , आप जो चाहे करे .........

    वैसे कविता बहुत बढ़िया है , आपने लिखी है क्या ?

    ReplyDelete
  41. Bahut sunder aur duniya ki sachchai ko pradarshit karti hui behatreen kavita.....Get well soon.

    ReplyDelete
  42. kya baat hai ...haqiqat kah di aapne...badhai

    GET WELL SOON :)

    ReplyDelete
  43. Brilliant reflection on today's world and sadly we are part of it. Hopefully, we can change it a bit towards the positive. Hope you're feeling better :-)

    ReplyDelete
  44. touchy poem nayi ho ya purani rachna achi hai
    Aur haan kya itna din se bimar bimar? jaldi se thik hoiye na itna bimaar hone se kaam nai chalega chyawanpraash khaiye 2 chammach ki taiyari rakhe door bimari hahahaha

    ReplyDelete
  45. बहुत अच्छी रचना ।

    ReplyDelete
  46. बहुत अच्छी और प्रभावी अभिव्यक्ति...... जाने क्यों पर यही हो रहा है.....?

    ReplyDelete

  47. बेहतरीन पोस्ट लेखन के लिए बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से, आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है - पधारें - नयी दुनिया - गरीब सांसदों को सस्ता भोजन - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

    ReplyDelete
  48. शेखर सुमन जी
    अच्छी कविता के लिए बधाई !

    सच कहा आपने -
    यह वो दुनिया तो नहीं जो ईश्वर ने बनाई थी,
    यह तो कोई और ही नई दुनिया है....


    ईश्वर ख़ुद अपनी बनाई दुनिया को अब ढूंढ़ता फिर रहा है , मुझे मिला था :)

    ~*~ हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !~*~

    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  49. बहोत ही सुन्दर कविता लिखी है

    सच में आज की दुनिया कुछ ज्यादा ही नयी हो गयी है

    आप जल्द ही स्वास्थलाभ प्राप्त करे

    बहोत बहोत धन्यवाद

    ReplyDelete
  50. जब तक cmindia की नई क्विज़ प्रस्तुत हो, इस पुरानी क्विज़ को
    हल करें। http://rythmsoprano.blogspot.com/2011/01/blog-post_3129.html

    ReplyDelete
  51. सटीक अभिव्यक्ति ...इंसान ने दुनिया बदल कर रख दी है ..

    ReplyDelete
  52. दुनिया तो वही है शेखर जी ...पर लोग वो नहीं रहे .... और उनके साथ बहुत कुछ बदल गया .... आप जल्दी ठीक हो ये भवान से दुआ है .... शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  53. बहुत सुन्दर पोस्ट...बधाई.

    _________________________
    'पाखी की दुनिया' में 'अंडमान में एक साल...'

    ReplyDelete
  54. बहुत सुन्दर कविता है
    आभार

    ReplyDelete
  55. very true lines about todays world

    ReplyDelete
  56. शेखर भाई, सचमुच यह तो कोई और ही दुनिया है।

    ---------
    क्‍या आपको मालूम है कि हिन्‍दी के सर्वाधिक चर्चित ब्‍लॉग कौन से हैं?

    ReplyDelete
  57. ARE O BACHBA 'CHARCHA' KE LIYE KYON TARASTE HO
    JARA AUR SE AIR DHAAR LAGAO JAGAH AP HI MIL JAWEGA

    SWASTH LABH KARO PHIR 'SARE LABH MIL JAWEGA'

    'AUR HAAN BLOGGER BLOGGER SE NA JALEGA TO KY PHES-BOOKIYA/ORKUTIYA/BAZZIYA/ SE JALEGA' KA MASTER APNI KARTAVYA KARTE RAHO BAKIYA SAB KUCH
    UPAR WALE PAR CHOR DO'

    SADAR

    ReplyDelete
  58. बहुत सुन्दर कविता है

    ReplyDelete
  59. यह वो दुनिया तो नहीं जो ईश्वर ने बनायीं थी,
    यह तो कोई और ही नयी दुनिया है....
    Aah!
    Gantantr Diwas kee hardik badhayi!

    ReplyDelete
  60. thought provoking piece...lovely!

    ReplyDelete
  61. आदरणीय शेखर सुमन जी
    बहुत अच्छी रचना ।
    आप जल्द स्वस्थ्य हो ऐसी कामना करते है! शुभकामनाओं सहित

    ReplyDelete
  62. haan kain baar aisa hi lagta hai aur jab kabhi prakriti ke kareeb jane ka mauka milta hai to hum apne dayron ko bhoolkar ek naye jahan ko pate hai..vakai ye duniya ..vo nahi ..

    ReplyDelete
  63. सच कहा है आपने और बहुत अच्छा लिखा है...

    ReplyDelete
  64. सच बयानी है और सुन्दर रचना है !

    ReplyDelete
  65. बेहतरीन!चंद दिनों से खामोश था लेकिन इन लाइनों को पढ़ कर ताजगी महसूस कर रहा हूं।

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...