Wednesday, January 12, 2011

बुढ़ापा...

               कमरे में दो चारपाइयाँ बिछी हैं। बीच में एक दहकती हुई अँगीठी कमरे को गर्म कर रही है। एक चारपाई पर बूढ़ा और दूसरी पर बुढ़िया रजाई ओढ़कर बैठे हुए हैं। वे यदा-कदा हाथ अँगीठी की तरफ बढ़ा देते हैं। दोनों मौन बैठे हैं, जैसे राम का जाप कर रहे हों।
“ठण्ड ज्यादा ही पड़ रही है।” बूढ़ी बोली,“चाय बना दूँ?”
“नहीं।” बूढ़ा अपना टोपा खींचते हुए बोला,“ऐसी कोई खास सर्दी तो नहीं।”
बूढ़ी खाँसने लगी। खाँसते-खाँसते बोली,“दवा ले ली?”
बूढ़े ने प्रतिप्रश्न किया,“तुमने ले ली?”
“मेरा क्या है! ले लूँगी।” वह फिर खाँसने लगी।
“ले लो, फिर याद नहीं रहेगा।” बूढ़ा फिर कुछ याद करते हुए बोला,“हाँ, आज बड़के की चिट्ठी आई थी।”
बूढ़ी ने कोई जिज्ञासा नहीं दिखाई तो बूढ़ा स्वत: ही बोला,“कुशल है। कोई जरूरत हो तो लिखने को कहा है।”
“जरूरत तो आँखों की रोशनी की है।” बूढ़ी ने व्यंग्य किया,“अब तो रोटी-सब्जी के पकने का भी पता नहीं लगता।”
“सो तो है।” बूढ़ा सिर हिलाते हुए बोला,“लेकिन वह रोशनी कहाँ से लाएगा!”
कमरे में फिर मौन छा गया। वह उठी, अलमारी से दवा की शीशी निकाली और बोली, “लो, दवा पी लो।”
बूढ़ा दवाई पीते हुए बोला,“तुम मेरा कितना खयाल रखती हो!”
“मुझे दहशत लगती है तुम्हारे बिना।”
“तुम पहले मरना चाहती हो? मैं निपट अकेला कैसे काटूँगा?”
“बड़का है, छुटका है। फिर मरना-जीना अपने हाथ में है क्या?”
बूढ़े ने आले में पड़ी घड़ी की तरफ देखा,“ग्यारह बज गए।”
“फिर भी मरी नींद नहीं आती।” बूढ़ी बोली।
“बुढ़ापा है। समय का सूनापन काटता है।” बूढ़ा लेटते हुए, खिड़की की तरफ देखकर बोला,“देखो, चाँद खिड़की से झाँक रहा है।”
“तो इसमें नई बात क्या है?” बूढ़ी ने रूखे-स्वर में टिप्पणी की।
“अच्छा, तुम ही कोई नई बात करो।” बूढ़ा खीझकर बोला।
“अब तो मेरी मौत ही नई घटना होगी।”
कमरे में फिर घुटनभरा मौन छा गया।
“क्यों, मेरी मौत क्या पुरानी घटना होगी?” बूढ़े ने व्यंग्य और परिहास के मिले-जुले स्वर में प्रतिवाद किया।
“तुम चुपचाप सोते रहो।” बूढ़ी तेज स्वर में बोली,“रात में अंट-संट मत बोला करो!” 

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>
इस कहानी के उपयुक्त कोई तस्वीर मुझे नहीं मिली अगर आप कोई तस्वीर सुझा सकें तो ....

33 comments:

  1. Abhi ye to aunty logo i cheaing hoti h bhai.. marne me bhi 'ladies first' wali facility chahiye... ye to mazaak hua bt sach me budhapa kashtaprad hota h

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर तरीके से मंज़र खिंचा है. शुक्रिया

    ReplyDelete
  3. बात है कि सब एक दूसरे की सलामती चाहते हैं....

    ReplyDelete
  4. शेखर भाई आपने सचमुच बहोत ही भावप्रधान लघुकथा लिखी है

    पोस्ट के लिए चित्र की कमी बिलकुल नहीं अखर रही क्योकि चित्र खुद ब खुद जेहन में बन रहा है........

    बधाई

    ReplyDelete
  5. बस इतना ही कहूँगी कि बढ़िया लगा |

    पुराना ब्लॉग मिलने की बधाई पर मेरी मानिये तो किसी एक पर ही सक्रीय रहिये |

    ReplyDelete
  6. अंशुमाला जी मैं इसी ब्लॉग पर सक्रिय हूँ .....

    ReplyDelete
  7. बढ़िया कहानी है दोस्त.. अब तो हर घर कि यही कहानी होती/होने जा रही है..

    ReplyDelete
  8. पूरी तरह से साहित्यक अंदाज में लिखी गयी कहानी ....बहुत सुंदर चित्र खिंचा है आपने ..शुक्रिया

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत शुक्रिया....

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन दृश्य खींचा है ...कबीले तारीफ.

    ReplyDelete
  11. अकेलेपन की व्यथा भरी सहज अभिव्यक्ति!!सहज सम्वाद से!!

    ReplyDelete
  12. देर सबेर सभी के साथ यह होना है!

    ReplyDelete
  13. अब तो हर घर कि यही कहानी होती जा रही है! बहुत सुंदर|

    ReplyDelete
  14. आत्‍मीयता की अभिव्‍यक्ति में झूठे पड़ते शब्‍दों के अर्थ.

    ReplyDelete
  15. अकाट्य सत्य है ये सभी की ज़िन्दगी का।

    ReplyDelete
  16. बढ़िया कहानी है, अच्छा विश्लेषण किया है.
    कभी समय निकालकर हमारे ब्लॉग//shiva12877.blogspot.com पर भी अपनी एक दृष्टी डालें .

    ReplyDelete
  17. शेखर भाई, आज शब्द कम पड गये इस कहानी की तारीफ के लिए,
    इसलिए सिर्फ बधाई

    ReplyDelete
  18. मार्मिक!
    मेरी आयु ६२ है। बुढापा नजदीक है। आजकल उसकी तैयारी कर रहा हूँ।

    यह पहले कौन मरेगा वाली बात तो हम मियाँ - बीवी भी आपस में करने लगे हैं
    पत्नि कहती है वह पहले जाना चाहती है।
    हमें यह मंजूर है। इसलिए कि जो भी पहले चला जाएगा, दूसरे के लिए जीना मुश्किल हो जाएगा।
    हम यह कष्ट और दुख उठाना चाहते हैं। पत्नि को इससे बचाना चाहते हैं।

    बेटा और बेटी हमारी इन बातों से नाराज हो जाते हैं।
    हाल ही में मैंने अपना वसीयत नामा तैयार किया था और अपनी बेटी और बेटे को इसका मसौदा भेजा था।
    उनकी राय जानना चाहता था। दोनों रोने लगे! बेटी तो कहने लगी "शुभ शुभ सोचो! मरने की बात क्यों करते हो?"
    अभी तो तुम लोगों को और बहुत जीना है!

    क्या करे?
    शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  19. जिंदगी के अंतिम पड़ाव की सुलगती सच्चाई !
    बहुत ही प्रभावशाली प्रस्तुति !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  20. शेखर जी ... दिल को छु गयी आपकी कहानी .... कितना कुछ कह गयी ये ... वक़्त का कुछ पता नहीं चलता ... कब क्या दिन दिखा दे .... शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  21. जीवंत लगा चित्रण ........ इसकी तस्वीर तो हर संवेदनशील व्यक्ति के मन में है.....

    ReplyDelete
  22. उम्र के साथ साथ प्रेम मे परिपकवता आती है , इसको बहु सधे ढंग से आपने चरित्रार्थ किया आपने ।

    ReplyDelete
  23. दिल को छु गयी आपकी कहानी .
    आपको और आपके परिवार को मकर संक्रांति के पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ !"

    ReplyDelete
  24. कल 9 बजे सुबह देखे
    विज्ञान पहेली -4 Science Quiz -4 (और Science Quiz -3 का उत्तर)

    ReplyDelete
  25. कहानी की मार्मिकता ने मन पर टीस की लकीर-सी खींच दी।

    ReplyDelete
  26. चित्र की क्या जरूरत है........आपके शब्दों ने खुद ही सजीव चित्रण कर दिया।

    ReplyDelete
  27. kayi baar yahan comment karne ki koshish kar chuki hoon....hota hi nahin...main hi bump off ho jaati hoon... :(

    i hope it goes thru this time....

    bohot bohot cute likha hai yaara, just lovely. i kno bohot emotional moment hai, aur chutkulon ke peeche kitna dard aur akelapan hai, par..cute is the word that comes to mind....lovely post :)

    ReplyDelete
  28. जीवन् की अंतिम वेला को बहुत अनूठे ढंग से लिखा है ... बेहतरीन ..

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...