Wednesday, January 30, 2013

सब काला हो गया है..

कुछ नहीं है, कुछ भी तो नहीं है...
बस अँधेरा है, छितरा हुआ,
यहाँ, वहाँ.. हर जगह...
काले कपडे में लिपटी है ये ज़िन्दगी
या फिर कोई काला पर्दा गिर गया है
किसी नाटक का...

इस काले से आसमान में
ये काला सूरज
काली ही है उसकी किरणें भी
चाँद देखा तो
वो भी काला...
जो उतरा करती थी आँगन में
अब तो वो
चांदनी भी काली हो गयी है...

उस काले आईने में
अपनी शक्ल देखी तो
आखों से आंसू भी काले ही गिर रहे थे..
डर है मुझे, कहीं इस बार
गुलमोहर के फूल भी तो
काले नहीं होंगे न....

11 comments:

  1. यह काला (अँधेरा) जल्दी चला जाए तो बढ़िया ...

    ReplyDelete
  2. नहीं, गुलमोहर खिलेगा और अपनी लालिमा बिखेरेगा....
    नया सूरज उगेगा...आस खोना नहीं बस..

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  3. शुभकामनायें शेखर ...

    ReplyDelete
  4. रात घिरी रहेगी तो सब रंग काले पड़े रहेंगे।

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत पंक्तियां और सुंदर भाव बिटवा ......जारी रहो

    ReplyDelete
  6. सुंदर भाव ... लगे रहो !

    बाल श्रम, आप और हम - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  7. Shekharji, aapke blog me behad apnaapan mehsoos hota hai. likhte rahiye. yah akulaahat ham sabhie ke mann me hai par sab ise shabdo me nahi baandh paa rahe hai

    ReplyDelete
  8. भावपूर्ण रचना...
    गुलमोहर के फुल की लालिमा आपके जिन्दगी को
    रंगीन करे...
    शुभकामनाएं...
    :-)

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...