Wednesday, March 16, 2011

बस यूँ ही आज तुम्हारी याद आ गयी...

           जब कभी उन बीते लम्हों की अलमारी खोलता हूँ तो बेतरतीबी से बिखरी हुयी यादें भरभरा के बाहर गिर पड़ती हैं ... न जाने कितनी बार सोचा कि उन्हें करीने से सजा दूं लेकिन कभी जब बहुत बेचैन होता हूँ तो मन में उठते हुए उबार किसी एक ख़ास लम्हें की तलाश में जैसे सब कुछ बिखेर देते हैं...
           तुम्हें वो पीपल का पेड़ याद है जहाँ तुम हर सुबह अपनी स्कूल बस का इंतज़ार करती थी, और मैं किसी न किसी बहाने से वहां अपनी सायकिल से गुज़रता था... तुम्हें बहुत दिनों तक वो महज एक इत्तफाक लगा था... तुम्हें क्या पता ये इतनी मेहनत सिर्फ इसलिए थी कि इसी बहाने एक बार तुम मुझे मुस्कुरा कर तो देखती थी, और कभी कभी तो मुझे रोक कर थोड़ी देर बात भी कर लेती थी.. वो ख़ुशी तो त्यौहार में अचानक से मिलने वाले बोनस से कम नहीं होती थी...
         प्यार करना भी उतना आसान थोड़े न है, वो देर रात तक सिर्फ इसलिए जागना क्यूंकि तुम्हारे कमरे की बत्ती जल रही होती थी, आखिर कभी कभी खिड़की से तुम दिख ही जाती थी... ऐसा लगता था जैसे खिड़की के उसपार पूनम का चाँद उतर आया है...
           यूँ वजह-बेवजह तोहफा देने की आदत भी तुम्हारी अजीब थी, पता तुम्हारी दी हुयी हर चीज आज भी संभाल कर रखी है...  वो बुकमार्क जो फ्रेंडशिप डे पर तुमने दिया था, आज भी मेरी किताबों के पन्ने से मुझे झाँक लिया करता है... और वो घड़ी, कलाई पर आज भी उतने ही विश्वास से टिक-टिक कर रही है, और तुम्हारे साथ बिताये हुए लम्हों की याद दिला जाती है...
         जब मैं तुम्हें बिना बताये छुट्टियों में पहली बार पटना से घर आया था, कैसे पागलों की तरह चीखी थी तुम, तुम्हारी आखों की वो चमक मंदिर में जलते किसी दीये की तरह थी, जो जलने पर अपनी लौ में कम्पन कर किसी नैसर्गिक ख़ुशी को व्यक्त करता है... उन खूबसूरत आखों में आंसू भी खूब देखे हैं मैंने, तुम्हारे पापा की बरसी पर जब तुम्हारे आंसुओं ने मेरे कन्धों को भिगोया था, मैं अपने आप को कितना बेबस महसूस कर रहा था... उस समय तुम्हारी एक मुस्कराहट के बदले शायद सब कुछ दे सकता था मैं...  उन आखों को चाहकर भी भुला नहीं पाया हूँ..
                    एक अरसा हुआ उन आखों को देखे हुए लेकिन इतना यकीन है कि उन आखों में आज भी वही चमक और वही मुस्कराहट तैरती होगी, भले ही उसका कारण अब मैं नहीं हूँ....

56 comments:

  1. बहुत मासूम अहसासों से भरी रचना!Nice!

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी लगीं ये शुभकामनायें .....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्यार भरे अहसास...

    ReplyDelete
  4. अमा मिया अजीब बुड़बकई करी थी तुमने जब इतना प्यार करते थे तो जाने क्यों दिया खैर डाट डपट बाद में कर लेंगे

    भावनाओ की अभिव्यक्ति यहाँ करी है उसके बारे में क्या कहू बिलकुल अद्भुत है

    ReplyDelete
  5. Hmmm awesome... loved it :)...

    Its lyk a treat to me... :)

    ReplyDelete
  6. [co="blue"]
    अब क्या करें संदीप भाई, शायद हर ख़ुशी किस्मत में नहीं होती...खैर इंतज़ार कीजिये, शायद डायरी के कुछ और पन्ने आपके सवालों का जवाब दे सकेंगे..
    [/co]

    ReplyDelete
  7. [co="green"]अरे मोनाली, कैसे कैसे रुख किया इधर का...??:
    थैंक्स यार, बस हम भी कभी कभी लिख लेते हैं....:D[/co]

    ReplyDelete
  8. प्यार करना भी उतना आसान थोड़े न है, वो देर रात तक सिर्फ इसलिए जागना क्यूंकि तुम्हारे कमरे की बत्ती जल रही होती थी, आखिर कभी कभी खिड़की से तुम दिख ही जाती थी... ऐसा लगता था जैसे खिड़की के उसपार पूनम का चाँद उतर आया है...
    वाह शानदार गज़ब ढा रहे हो प्यारे ...प्यार करना इतना आसान क्यों नहीं होता ?...अरे होता है मिया बहुत आसान होता है....प्यार करना बस निभाना बड़ा मुश्किल होता....

    ReplyDelete
  9. हा हा हा हा हा मुझे मालूम था ये दिल तो पागल है ..नहीं पगला है रे ! सुनो आज तुम्हारी इस पोस्ट ने जाने क्या क्या याद दिला दिया ...चलो एक बात बताता हूं ....छोडो यहां नहीं । पोस्ट बहुत अच्छी लिखी गई है ..या मुझे लगता है दिल ने सारा काम हाथों से खुद ही करवा लिया होगा ..इसमें तुम्हारे दिल को क्रेडिट दे रहे हैं रे बच्चे ..खुश रहो

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्यार भरे अहसास|

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर पोस्ट है। धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. भीगी भीगी सी यादें,जो बस आंखे भिगो देती हैं ।

    ReplyDelete
  13. यार शेखर तुमने तो बहुत कुछ याद दिला दिया
    बेहतरीन लिखा है, दिल से निकली बात दिल तक पहुचँ रही है
    शुभकामनाये

    ReplyDelete
  14. yadoon ko kitni khubsurti se piroya hai sekhar ji....ek rachna thi jo hme bachpan se hi bhut pasand h..."usne kha tha",,,,aaj kuch vaisa hi laga...thanx....u r great..

    ReplyDelete
  15. [co="aqua"]वाह! बहोत ही बेहतरीन लिखा है शेखर भाई आपने
    शुभकामनाएँ [/co]

    ReplyDelete
  16. इतना यकीन है कि उन आखों में आज भी वही चमक और वही मुस्कराहट तैरती होगी, भले ही उसका कारण अब मैं नहीं हूँ....
    बहुत सुन्दर प्यार भरे कोमल अहसास...

    ReplyDelete
  17. [co="red"] अरे आशीष भाई ऐसा रंग उपयोग न करें जो पढने में ही न आये... मेरे ख्याल से यहाँ गहरे रंग ज्यादा अच्छे लगेंगे..[/co]

    ReplyDelete
  18. समय की रेत पर यादों की तरह दर्ज तस्‍वीर.

    ReplyDelete
  19. सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  20. .प्यार करना बस निभाना बड़ा मुश्किल होता....

    ReplyDelete
  21. होली की सपरिवार रंगविरंगी शुभकामनाएं |
    कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका

    ReplyDelete
  22. यादों के खूबसुरत एहसास...

    ReplyDelete
  23. भीगी सी यादो ने आज नहला दिया
    जो कुछ छुपा रखा था दिखा दिया
    हाय! आज तो सब कुछ लुटा दिया
    और उसे खबर तक ना हुयी
    यादो की फ़ेहरिस्त मे
    आज भी तुम चस्पां हो

    ReplyDelete
  24. अरे यार
    आना जाना तो लगा ही रहता है.
    ये जिँदगी मेला है .एक जाता है तो दूसरा आता है
    इसलिये टेँशन नही लेने का .

    ReplyDelete
  25. [co="#856363"]वाह! बहोत ही बेहतरीन लिखा है शेखर भाई आपने..

    शुभकामनाएँ
    [/co]

    ReplyDelete
  26. [co="#CD6600"]शेखर भाई डायरी के अगले पन्ने कब पलट रहे हो ....? :)[/co]

    ReplyDelete
  27. [co="green"]आशीष भाई आप यहाँ होली खेल रहे हैं जी ????
    हा हा हा....
    होली के अवसर पर ही ये सुविधा शुरू की है..वैसे आपको कैसे पता इसके बारे में...>???? [/co]

    ReplyDelete
  28. बहुत खूबसूरत भाव ...
    इसके आगे इतने ढेर सारे विचार आ रहे हैं कि कुछ भी नहीं लिख पा रही हूं ...

    ReplyDelete
  29. sundar yaade...bahut achcha likha...

    ReplyDelete
  30. शेखर जी , बहुत ही गहरे और प्यारे से एहसास है. .......... दिल को छू लेने वाले. सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  31. [co="#993300"]शेखर भैय्या हम भी कंप्यूटर साइंस के स्टूडेंट है ..... :)वैसे बताना चाहूँगा कि ये चीज तो मैंने नवीन जी के ब्लॉग से सीखी है [/co]
    [co="#CD3700"]मैं तो होली नहीं खेलता हूँ पर आप कहते है तो यहीं होली खेल लेते हैं :)[/co]

    ReplyDelete
  32. जब जब उनकी याद आती है , दिल मे यादों के दिये जल जाते है , आँखे नम हो जाती है , और्र होठों पर ह्ल्की सी मुस्कराहट तैर जाती है , इस संगम का भी आनन्द कुछ अलग ही है .........

    ReplyDelete
  33. ये यादें भी ना ! एकदम बांवरी होती हैं... वक़्त बे-वक़्त चली आती हैं.... कभी हँसा जाती हैं तो कभी रुला जाती हैं और कभी अपने संग बीते लम्हों की दुनिया की सैर करा लाती हैं... पर जैसी भी हों ये यादें होती बड़ी प्यारी हैं और अज़ीज़ भी... यादों को बड़े प्यार से संजोया है आपने शेखर जी और हाँ प्यार करना वाकई आसान नहीं होता...

    ReplyDelete
  34. ummhmmmm........ ;)

    cute...!!!

    :)

    ReplyDelete
  35. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (19.03.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  36. सुन्दर और कोमल शब्दों में पिरोये एहसास ...बहुत अच्छी लगी यह प्रस्तुति ..


    होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  37. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  38. शेखर जी बीती यादो के पलो को आपने साँझा किया उसके लिए धन्यवाद वैसे डायरी के अगले पन्नो को कब पलटोगे इन्तजार रहेगा
    होली की ढेरो ढेर शुभकामनाए ............

    ReplyDelete
  39. लेकिन इतना यकीन है कि उन आखों में आज भी वही चमक और वही मुस्कराहट तैरती होगी, भले ही उसका कारण अब मैं नहीं हूँ....
    sach pyar ki parakashtha yahi hai...jahan bhi raho khush raho....bahut sundar likhe hain.

    ReplyDelete
  40. माफ़ करना बहुत दिनों बाद ब्लॉग पर आना हुआ .....तुम्हारी यादो मे सफ़र करना अच्छा लगा ..
    होली की शुभकामनाये

    ReplyDelete
  41. [co="red"]आप[/co] [co="green"]सभी को[/co][co="blue"] होली की [/co][co="brown"]ढेर सारी शुभकामनाएं.... :)[/co]

    ReplyDelete
  42. होली की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  43. आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा अति उत्तम असा लगता है की आपके हर शब्द में कुछ है | जो मन के भीतर तक चला जाता है |
    कभी आप को फुर्सत मिले तो मेरे दरवाजे पे आये और अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाए |
    http://vangaydinesh.blogspot.com/
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  44. ab main kya bolu..or kya likhu comment me mujhe samjh nhi aarha...speechless.........dil ko chuti hui aapki rachna...aesa hi hota hai mayne badl jate hai....surat wahi rehti hai aaine badl jate hai...trust me........

    ReplyDelete
  45. यादें तुम्हारी हैं...जाने हमें कैसे भिगो गयीं.....
    ज़रूर कोई ख़याल ऐसा ही हमें छू कर भी गुज़रा हो...कौन जाने....याद नहीं पढता...अलमारी टटोलती हूँ..
    :-)
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  46. यादों के लम्हे तुम्हारी मुट्ठी से फिसले और हमारे दिल में मानो बस से गए...।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब तो बस कुछ यादें ही हैं, यादें सुन्दर होती हैं....

      Delete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...