Tuesday, December 14, 2010

वो लम्हें जो याद न हों......

वो पहली बार,
जब माँ ने गले से लगाया,
वो लम्हा जब पापा ने गोद में उठाया,
वो पहली मासूम सी हँसी,
वो पहली नींद की झपकी,
दादी की प्यार भरी पप्पी,
वो पहले लड़खड़ाते से कदम,
वो अनबुझ पहेली सा बचपन...
ढेर सारे खिलौने,
गुड्डों और गुड़ियों की दुनिया,
स्कूल में वो पहला दिन,
वो प्यारे पलछिन,
और भी ऐसा बहुत कुछ......
इस ज़िन्दगी की आपाधापी से,
इन वाहनों के शोर से,
कहीं दूर, कहीं एकांत में,
आओ बैठें, समेटे उन लम्हों को,
वो लम्हे जो बीत गए....
वो लम्हें जो याद न हों......

43 comments:

  1. वो पहली बार,
    जब माँ ने गले से लगाया,
    वो लम्हा जब पापा ने गोद में उठाया,
    वो पहली मासूम सी हँसी,
    वो पहली नींद की झपकी,

    अंतर्मन को छूती ये कविता भा गयी .......

    सुन्दर

    ReplyDelete
  2. सुन्दर कवितायें बार-बार पढने पर मजबूर कर देती हैं. आपकी कवितायें उन्ही सुन्दर कविताओं में हैं.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर .... सच में जीवन की आपाधापी में कितने मासूम पल खो जाते हैं... बिसर जातें हैं....
    प्रभावी अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  4. awwww.....cho chweeeeet :)

    makes me think, life ke sabse important moments hamein yaad nahin reh paate na .....

    ReplyDelete
  5. @ saanjh..
    this iz d irony yaar...
    काश कोई ऐसा विडियो एल्बम बन जाता हम सबका हमारी ज़िन्दगी का एक एक लम्हा जो हम बार बार देख पाते...

    ReplyDelete
  6. Excellent composition!
    May I add?

    वह पहला वर्षगांठ!
    वे रंगीन गुब्बारे!
    और सब का "हैप्पी बर्थडे टू यू" गाना!
    पहली बार "माँ" "पापा" के शब्द मुँह से निकलना!
    सर पर वह पहली चोट और वह चीखना और रोना!

    वह पहली शैतानी!
    बिल्ली की पूंछ खेंचना!
    घर/पेड/फ़ूल का
    दीवारों पर वह पहला ड्रॉइंग!

    वह पहली गुडिया/टेड्डी
    जिनसे अलग होकर नींद न आए।
    साइकल पर वह पहला दिन!
    गिरकर घुटने पर वह पहली चोट!
    पहली बार अपना नाम लिख पाना!
    और न जाने क्या क्या!
    ===============

    अपनी जिन्दगी की ये अनुभवें तो याद नहीं।
    पर मेरे बच्चों के ये अनुभव मुझे अब भी याद है।

    ReplyDelete
  7. Childhood... truelly da best tyme of lyfe.. :)
    Kahin padha tha k khilaune tutne pe rote the tab malum na tha k is se bhi zyada dard sapne tutne pe hoga :(

    ReplyDelete
  8. ओह्ह...
    विश्वनाथ जी...
    मैं तो कहता हूँ आप भी एक कविता लिख ही डालिए... छापने की ज़िम्मेदारी मेरी.... पिछली कविता पर भी आप की टिप्पणियां पढ़ीं....
    आप तो छा गए हैं....
    उम्मीद है आपकी यात्रा सफल और आरामदायक रही होगी....

    ReplyDelete
  9. मोनाली...
    अरे यार ये मूंह क्यूँ लटका लिया ??? अरे जिस तरह खिलोने नए मिल जाते थे उसी तरह सपने भी नए बनाओ...
    ज़िन्दगी में कुछ भी टूटने से कोई फर्क नहीं पड़ता, नयी चीजें हमेशा आगे इंतज़ार करती मिलती हैं.....

    ReplyDelete
  10. शेखर सुमन जी, बहुत ही सुन्दर भावनात्मक कविता ... आपने चुन चुन के ऐसे पलों को गिनाये हैं कि एक बार फिर जी कर रहा है कि जिंदगी फिर से जी लूँ ... और उसपर विश्वनाथ जी ने भी कमाल कर दिया ...

    ReplyDelete
  11. और वो पहला पहला प्रेम .... :)?

    ReplyDelete
  12. सुन्‍दर भावमय करती यादें ...खूबसूरती से संजोया है जिन्‍हें आपने ..।

    ReplyDelete
  13. अरविन्द जी...
    पहला प्रेम तो सब को याद रहता है... हा हा हा...

    ReplyDelete
  14. शेखर जी

    मै इन लम्हों को कभी याद नहीं करती क्योकि मै इन्हें भूलती ही नहीं अच्छी कविता |

    नया ब्लॉग अच्छा लगा |

    ReplyDelete
  15. अरे शेखर, यह क्या?
    हम कवि नहीं हैं भाई।
    हमने तो केवल वाक्यों को तोडकर अलग अलग लाईन में क्या लिख दिया, आप मुझे कवि समझने लगे?
    हम तो कट्टर ईंजिनियर हैं जी।
    हम संख्यों से, रेखाचित्रों से, फ़ोर्मुलाओं से परिचित हैं
    भावों से, शब्दों से हमें क्या लेना देना?
    आप लिखिए कविता
    हम पढेंगे और वाह वाही करेंगे।
    हमारी औकात उतनी ही है।
    शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ
    (हैदराबाद से कल वापस लौट। यात्रा सफ़ल रही)

    ReplyDelete
  16. विश्वनाथ जी..
    हम भी तो यही फ़ॉर्मूला अपनाते हैं, हम कौन सा कवि हैं !!!
    हमें भी इंजीनियरिंग के उन्ही फोर्मुलों ने निर्जीव बना दिया है....

    ReplyDelete
  17. कोई लौटा दे मुझे बीते हुए दिन //

    ReplyDelete
  18. सुन्दर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  19. वो पहली बार,
    जब माँ ने गले से लगाया,
    वो लम्हा जब पापा ने गोद में उठाया,
    वो पहली मासूम सी हँसी,
    वो पहली नींद की झपकी,

    ji haan aapki kavita padhkar fir se wohi din yaad aa gaye aur yaad aa gya ki kitne keemti aur hasen pal hamare jeevan ke nikal gaye hai..
    iske liye main aapko dhanyvaad aur badhai deta hoon.

    main blogger par naya hoon aur thoda bahut likhne ki gustaakhi bhi kar leta hoon to plz aap mere blogs samratonlyfor.blogspot.com and
    reportergovind.blogspot.com par bhi najar dalein aur apne comment bhi dein.
    thanx

    ReplyDelete
  20. You made me nostalgic. Indeed a lovely creation.

    ReplyDelete
  21. कित्ती प्यारी कविता..बधाई.

    ________________
    'पाखी की दुनिया; में पाखी-पाखी...बटरफ्लाई !!

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुंदर एहसास के साथ सुंदर कविता.... चित्र ने भी मन मोह लिया... काश बीते लम्हें वापस आ पाते हकीकत में , न की सिर्फ ख्यालों में.

    ReplyDelete
  23. nice one... took me down d memory lane....

    ReplyDelete
  24. चलिए हम भी आ गये उन लम्हों को समेटने

    ReplyDelete
  25. Bahut payaara tha sachmuch bachpan. 'Wo kagaz kI kashti barish ka paani--'

    ReplyDelete
  26. Sach bachpan se sundar samay jindgi me koi nahi

    ReplyDelete
  27. सुन्दर कविता... नाज़ुक एहसास...

    ReplyDelete
  28. बहुत सुंदर प्रभावी अभिव्यक्ति|

    ReplyDelete
  29. शेखर सुमन जी अति सुन्दर कविता

    शेखर जी आपका नया ब्लॉग अच्छा लगा !

    ReplyDelete
  30. shekhar ji
    bahut bahut dhanyvaad avam hardik shubh kamnaaye.
    bachpan ke din bhi kya din the
    hanste-gaate pal -pal chhin the
    jinme kuchh yaad rahe luchh bhool gaye ,fir bhi aapne yaad dila hi diya.
    bahut hi sundar rachna.
    poonam

    ReplyDelete
  31. वो पहले लड़खड़ाते से कदम,
    वो अनबुझ पहेली सा बचपन..

    काश बचपन के वो दिन फिर से लौट आते...
    ...बहुत ही प्यारी रचना।

    ReplyDelete
  32. यादों को याद करती सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  33. bahut sunder andaz men likha hai aapne.

    ReplyDelete
  34. उन लम्हों को याद करने से अच्छा भी लगता है और बुरा भी कि इतनी इतनी जल्दी क्यूँ बीत गया?

    ReplyDelete
  35. बीते पलों को याद करना सुखकर होता है.
    अच्छी रचना.

    ReplyDelete
  36. बहुत भावपूर्ण रचना है। मन को छूती हुई।

    ReplyDelete
  37. शेखर जी आपकी यह रचना अच्छी लगी...आज १७-१२-२०१० को आपकी यह रचना चर्चामंच में रखी है.. आप वहाँ अपने विचारों से अनुग्रहित कीजियेगा .. http://charchamanch.blogspot.com ..आपका शुक्रिया

    ReplyDelete
  38. वो लम्हे जो बीत गए....
    वो लम्हें जो याद न हों......
    beautiful one!!!

    ReplyDelete
  39. बहुत सुंदर..ऐसी ही कामना हमने भी करी थी..
    यहाँ पढ़ियेगा..
    'एक पुराने बक्से में..'
    http://priyankaabhilaashi.blogspot.com/2010_10_01_archive.html

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...