Friday, December 17, 2010

मेरा बचपन तस्वीरों में....

             ऐसी तस्वीरें जो मेरे लिए अनमोल हैं | उम्मीद  करता हूँ आपको मेरी यह तस्वीरें पसंद  आएँगी | और इन्हें देखने के बाद आप भी अपना पुराना अल्बम एक बार ज़रूर पलटेंगे |
               वैसे उस समय कैमरा हम जैसे मध्यम वर्गीय परिवार से दूर ही था फिर भी मेरे जन्म के २ महीने के बाद आखिरकार मेरा पहला फोटो ले ही लिया गया | सब कहते हैं जब पहली बार मेरा फोटो लिया गया तो मैं डर  गया था उस अजीब सी रौशनी से, अरे फ्लैश और क्या ...

                 अब इस तस्वीर को देखिये अपने बड़े भैया की गोद में भी परेशान लग रहा हूँ और भैया तो पोज देने में व्यस्त हैं :) 
                काफी न-नुकुर के बाद यह फोटू अपनी प्यारी ममेरी बहन के साथ खिचवा ही लिया था मैंने :) वो मुझसे २ महीने बड़ी है तभी तो समझदारी दिखाते हुए कैमरे से आँखें बचा ली और मैं ठहरा नादान, इसलिए  एक बार फिर परेशान ....

                  इस लम्बे फोटोसेशन के बाद मुझे ४ महीने इस कैमरे नाम की बला से दूर रखा गया | फिर दूसरा दौर ..उफ्फ्फ..लेकिन तब तक तो थोड़ी हिम्मत आ ही गयी थी...

                   लेकिन एक प्यारा सा पोज देकर मैंने और फोटो लेने से साफ़ मना कर दिया... फिर तो पूछिए ही मत , इस मुए कैमरे और फोटो के चक्कर में मुझे क्या क्या बनाया गया | आप खुद ही देख लीजिये..हालाँकि फोटू की क्वालिटी थोड़ी ख़राब है लेकिन ये सबसे अनमोल है..


 ====================================================================
                        

53 comments:

  1. वाह...!
    बहुत सुन्दर लग रहे हो!
    आपका बचपन देखकर हमें भी अपना बचपन याद आ गया!

    ReplyDelete
  2. प्यारी फोटुयें !

    ReplyDelete
  3. holy smoke.....!!!! aakhiri to waakai kamaal hai.....chooo chweeeet ;) :P

    bade acche fotu hain ;)

    ReplyDelete
  4. सांझ...
    शुक्रिया.,,:) hihihihi....
    हम तो बचपन से स्मार्ट हैं..:)

    ReplyDelete
  5. वाह शेखर भाई .......
    अब हम भी जा रहे हैं एल्बम देखने............:)

    ReplyDelete
  6. लास्ट वाला सबसे बेस्ट है | :)

    ReplyDelete
  7. अरे आशीष भाई,
    इतनी जल्दी कहाँ चले....पहले हमरा फोटू सब तो देख लीजिये..

    ReplyDelete
  8. बहुत क्यूट थे भई ... हमारे बचपन के ज़माने में तो श्वेत श्याम तस्वीर ही होती थी ... कभी मौका मिला तो मैं भी लगाऊँगा ... कुछ तसवीरें छोडकर ... :)

    ReplyDelete
  9. वह! क्या सुन्दर लगरहे हो |

    बहुत बढ़िया|

    ReplyDelete
  10. बहुत ही खुब लिखा है आपने......आभार....मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित नई रचना है "प्रभु तुमको तो आकर" साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. Er. सत्यम शिवम
    अपनी आँखें खोल के देखिये यहाँ तो मैंने ज्यादा कुछ लिखा ही नहीं है... एक ही चीज सभी ब्लॉग पर कॉपी पेस्ट किये घूम रहे हो....अच्छा लिखोगे लोग खुद ब खुद तुम्हारे ब्लॉग पर आयेंगे...यूँ सब जगह पोस्टर चिपकाने से कुछ नहीं होगा...

    ReplyDelete
  12. बीते हुए पलों को संजोना भी एक कविता ही है //
    शेखर जी /
    बहुत ही अच्छा /
    मेरे पास पुरानी तस्वीरे नहीं है

    ReplyDelete
  13. बचपन की धरोहर जीवन भर मन को बहलाती है। बहुत सुन्दर तस्वीरें हैं।

    ReplyDelete
  14. .
    .
    .
    सुन्दर फोटो,अच्छी पोस्ट...

    पर मैं इतना खुशकिस्मत नहीं... बचपन की एक भी फोटो नहीं है पास में... बस अंदाजा लगा सकता हूँ अपनी नई पीढ़ी को देख कि मैं भी बचपन में ऐसा ही दिखता रहा होऊंगा (माँ के अनुसार)...



    ...

    ReplyDelete
  15. सर्वप्रथम....आपको बता दू गलती से मैने आपकी कविता पर देने वाले कामेन्ट को फोटो पर दिया ...माफ किजीएगा.......मैने आपकी सारी फोटो देखी है अच्छे से कैसे विश्वास दिलाऊ।जहाँ तक प्रचार प्रसार की बात है तो अभी नया हूँ न तो जरुरी समझता हूँ...जैसा कि आपने कहा अच्छा लिखोगे तो खुद सब पंसद करेंगे.........अभी हाल में मेरी कविता "पिता का दुख" को बहुत सराहा गया....पता है ये बस इक ट्रेलर है..........मैने मात्र ६ माह में ३०० से भी ज्यादा कविताए लिखी है,अपने इंजीनीयरिंग के सिड्यूल के बावजूद.......मै बस आपसे सहायता चाहता हूँ,मार्गदर्शन करे....भूल तो छोटे भाई से हो जाती है ना.....अभी नादान हूँ.........धन्यवाद।

    ReplyDelete
  16. Bachpan kee pix..waah bahut sundar hain

    ReplyDelete
  17. सभी फोटो अच्छी है
    देखते ही पता लग गया की तुम बचपन से ही स्मार्ट हो।
    हा हा हा

    ReplyDelete
  18. Hahaha.. Apke bade bhaisahab aur apki shakl kaafi milti h shayad.. mujhe to aakhiri tasveer hi zyada pasand aayi.. bhai usme tumhe ladki jo banaya gaya h :P

    ReplyDelete
  19. इन्द्रनील जी..
    जल्दी अपनी फोटू लगाईये न .....

    ReplyDelete
  20. इन तस्वीरों में तो आप बिल्कुल ‘सुमन‘ जैसे लग रहे हैं...शेखर शायद बड़े होने पर दिखेंगे।

    ReplyDelete
  21. yaar teri comments bahut mast thi aur photos toh badhiya thi hee,sach hai ki bhale hee aaj digicam ka chalan ho lekin purane camera ki baat hee kuch aur hai. teri pics dekhkar mujhe bhi meri album dekhne ka mann ho aaya. sach main bahut hee sunder rachna thi yeh

    ReplyDelete
  22. तुम्हारी बचपन की फोटो सब देख कर मन बहतु खुश हो गया. पता है मेरे पास सिर्फ एक ही तस्वीर है अब तक. :( खैर एक तो है)

    ReplyDelete
  23. वंदना जी,
    ये अब तक क्या है???:))
    क्या दोबारा बचपन आने के बाद तस्वीरें लेने का इरादा है,,, हा हा हा:)

    ReplyDelete
  24. बड़े अनमोल फोटो ढून्ढ लाये हो, पापा को धन्यवाद कहो मियाँ जो यह अनमोल यादें बची हैं ...
    खराब फोटो ( पहला और चौथा )को किसी अच्छे प्रोग्राम की मदद से ठीक करके लगाएं तो अच्छा लगेगा तब तक के लिए इस संकलन से हटा दें !
    यह यादें वाकई मधुर हैं बदकिस्मती से मेरे पास नहीं हैं :-(
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  25. सतीश जी
    बहुत कोशिश की लेकिन सही नहीं कर पाया...अब इस प्यारे से संकलन से हटाना सही नहीं लग रहा..लेकिन तस्वीरिन ठीक होने पर ज़रूर बदल दूंगा...
    अगर कोई मित्र फोटो ठीक करने के सन्दर्भ में कोई मदद कर सके तो बड़ी मेहरबानी होगी....

    ReplyDelete
  26. तस्वीरों को सुंदरता से प्रस्तुत किया है आपने!!!
    सच! ये यादें अनमोल हैं...

    ReplyDelete
  27. हा हा हा ये भी खूब रही मेरी ही बातों से चुटकी ले ली तुमने . वैसे अब तक का मतलब ये है कि बहुत खोजने पर मेरे पास एक ही फोटू है.

    ReplyDelete
  28. शेखर जी बहुत दिनों बाद आपके ब्लॉग में आने के लिए माफ़ी चाहूँगा वैसे आपने अपनी बचपन की फोटो लगाकर सभी ब्लॉग मित्रो के बचपन की यादो को ताजा कर दिया है स्वीट फोटो है !
    शेखर जी इन दिनों वास्तव में व्यस्तता है! अभी हमारे शहर रायपुर में स्वदेशी मेला लगने वाला है और उस मेले के आयोजन समिति का मै सहसंयोजक हु !23 से 29 दिसम्बर तक लगने वाले मेले की तैयारी एक माह पूर्व से प्रारम्भ हो जाती है !बहुत बड़ा आयोजन बहुत सारी प्रतियोगिताये परिचर्चा सांस्कृतिक कार्यक्रम और बहुत कुछ होता है मेले में! खैर पूरी बाते मै इस आयोजन के बाद अपने अगले ब्लॉग में लिखूंगा ...........

    ReplyDelete
  29. ताऊ पहेली १०५ का सही जवाब :
    http://chorikablog.blogspot.com/2010/12/105.html

    ReplyDelete
  30. sundar tasveerein hai... sach mein bachpan ki yaad aa gayi..

    mere blog pe aapka sawagat hai..
    Lyrics Mantra
    thank you

    ReplyDelete
  31. फोटो देख कर मन बहतु खुश हो गया.

    ReplyDelete
  32. वाह वाह ..छा गए ....बचपन याद दिलाती फोटो ..

    ReplyDelete
  33. फोटो बहुत सुन्दर है और जो तुम ने लिखा है उस से फोटो मे चार चाँद लग गये :-)

    ReplyDelete
  34. बचपम की यादें एक धरोहर जैसी होता है।आपने उसे संडोकर रखा यहा काफी है। अच्छी प्रस्तुति। मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  35. .

    सुमन आपने हर फोटो के साथ केप्शन देकर
    सभी फोटों को जीवंत कर दिया.
    सभी अच्छे हैं.
    बड़ी सुखद होती हैं बाल-स्मृतियाँ. हैं ना!

    .

    ReplyDelete
  36. क्‍यूट फोटोग्राफ्स।
    yaar isiliye dobara dekhne chala aaya

    ReplyDelete
  37. हा हा हा...
    बेनामी जी आपका स्वागत है...:)
    यूँ ही आते रहे और अपने चुटकुले सुनाते रहे....

    ReplyDelete
  38. sabhi tashvire bahut pyari...
    aur ye jo side me Mr. Bean jhank rhe hai wo bhi bahut mazedaar hai :D

    ReplyDelete
  39. शुभम जी,,
    काफी अरसे बाद आपको अपने ब्लॉग पर देखकर अच्छा लगा...
    शुक्रिया ...

    ReplyDelete
  40. Good Idea.
    I too will consider posting my pictures publicly sometime.
    At the age of 62, I have a much bigger range of features to display.
    I am amazed to note how I have changed in appearance all these years.
    I have too many pictures of the last 5 years of my life clicked with digital cameras and too few pictures (and that too in black and white) of my earlier life.
    I hope to see similar pictures of other blog friends too.

    Your last picture was the cutest.
    Regards
    GV

    ReplyDelete
  41. बचपन मे तो बहुत क्यूट थे ...अब क्या हुआ ?????? हा ..हा ...हा ...मजाक किया अब भी क्यूट हो ... खुश रहो हमेशा ....

    ReplyDelete
  42. nice....bachpan ki yaadon ko sanjona sach mein bauhat accha lagta hai!!!

    ReplyDelete
  43. बचपन के सुंदर फोटो के रूप में बेहतरीन और काबिलेतारीफ फोटोग्राफ्स है आपके .....

    ReplyDelete
  44. वाह शेखरजी मानना पड़ेगा आपको....

    ReplyDelete
  45. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  46. मस्त फ़ोटो हैं !!

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...