Wednesday, June 6, 2012

आप सभी का बहुत बहुत शुक्रिया...

             कभी कभी वक़्त इतनी तेजी से इन चंचल लहरों के संग हो लेता है कि पता ही नहीं चलता कब हम बहते बहते कितनी दूर चले आये हैं... ऐसा लगता है जैसे कल ही की बात थी जब मैंने ब्लॉगिंग शुरू की थी... आज इस शतकीय पोस्ट पर जब पीछे पलट कर देखता हूँ तो ज़िन्दगी के कई पन्ने यूँ ही अधखुले से फडफडाते हुए जान पड़ते हैं... सामान्यतः मैं अपनी पुरानी पोस्ट्स नहीं पढ़ता, लेकिन जाने अनजाने में कुछ पोस्ट अपने दिल के इतने करीब से होकर गुज़रते हुए यहाँ उतारी हैं कि आज सब कुछ फिर से पढने का मन किया.... कुछ को पढके हंसी भी आई और कुछ ने आखें भी नम कर दीं... कुछ पोस्ट को पढ़ के तो ऐसा लगा जैसे इतना सब कुछ मैंने कैसे लिख दिया... मेरे कई बीते लम्हों को यूँ ही समेटता रहा हूँ हमेशा... कई सारी पोस्ट आज भी अन्दर तक उतर आती हैं...
             ब्लॉग लिखना शुरू करने के पहले अक्सर मैं यूँ ही बकवास अपनी डायरी में लिख लिया करता था, तब तो ये भी पता नहीं था ये कमबख्त किस चिड़िया का नाम है... अगर प्रतीक ने अपना ब्लॉग नहीं बनाया होता तो मुझे पता भी नहीं चलता.... हालांकि वो इंग्लिश में लिखता था लेकिन उसी समय मेरा भी ब्लॉग बनाने का मन किया... इसके बारे में कुछ तो पता नहीं था... ब्लॉग बनाने, उसका टेम्पलेट वगैरह खोजने का पूरा का पूरा काम मनीष ने किया... मुझे ब्लॉगर बनाने का पूरा क्रेडिट मनीष को... और मेरी पोएम्स को पढ़कर उसको झेलने के लिए मैं निशांत को भी हमेशा थैंक्स बोलूँगा... प्रतीक, मनीष और निशांत तुम तीनो का बहुत बहुत शुक्रिया मुझे इस दुनिया में लाने के लिए.... आज मैं यहाँ बहुत खुश हूँ, जब कभी भी मेरा खामोश दिल चुपके से सुगबुगाता है तो उसे यहाँ सबके सामने रख पाता हूँ... इस ब्लॉग ने मुझे बहुत कुछ दिया... कई सारे अच्छे दोस्त जिनसे हर सुख दुःख बाँट सकता हूँ... सबके नाम तो गिनाना शायद मुश्किल है लेकिन कुछ लोग जो अपने से भी ज्यादा अपने हो गए इन पिछले करीब दो सालों में.... चाहे वो "एनी टाईम अवेलेबल" रहने वाली दोस्त मोनाली हो या फिर मुझे ढेर सारा मानने वाले देव भिया, अजय भैया, शिवम भैया,  प्रशांत भाई, अभिषेक भाई, वंदना और ऐसे न जाने कितने ही अपने जिनसे मिलवाने में मेरे इस ब्लॉग ने मदद की... हालांकि सबसे बातें बढाने में फेसबुक ने काफी मदद की लेकिन फिर भी ब्लॉग का महत्व कम नहीं हो सकता.... ये ब्लॉग केवल मेरे विचारों के बवंडर को समेटने का सिर्फ एक जरिया मात्र नहीं बल्कि एक अपने आप में मेरी एक छोटी सी प्यारी दुनिया है... जहाँ हर तरह के लोग हैं जो अपनी ज़िन्दगी का हिस्सा सा लगने लगे हैं...आप सभी लोगों ने मेरे हर अच्छे बुरे लम्हों को इन पोस्ट्स के माध्यम से पढ़ा, सराहा, हौसला दिया... आप सभी का बहुत बहुत शुक्रिया... आप यूँ ही पढ़ते रहे और मैं यूँ ही लिखते रहने की कोशिश करता रहूँगा...

24 comments:

  1. सेंचुरी की बधाइयाँ...
    हर कुछ दिन में हम भी एक बार इधर का टहल्ला मार ही लेते थे/हैं :) लिखना थोड़ा नियमित करो...बहुत बहुत दिन गायब हो जाते हो.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे क्या करूँ यार... ये नौकरी की मगजमारी और इंटरव्यू में थोडा बिजी हूँ... फिर भी हर सप्ताह एक बार तो कुछ न कुछ लिख ही देता हूँ... चलो अभी से फ्रीक्वेंसी थोड़ी बढ़ाते हैं... थैंक्स, यहाँ आते रहने के लिए...

      Delete
    2. और यार तुम्हारी तरह हर साल सेंचुरी लगाना तो मुश्किल है और इस साल तो अभी से तुम्हारी १०० पोस्ट हो गयी हैं... यू आर ओउसम :)

      Delete
  2. ब्लॉग को लेकर ज़्यादातर सभी लेखकों का या यूं कहिए की सभी ब्लोगेर्स का यही अनुभव है जो आपने लिखा है और यही होना भी चाहिए आपके इस हिन्दी ब्लॉग जगत की खूबसूरत दुनिया मे 2 साल पूरे होने के लिए आपको हार्दिक शुभकामनायें... समय मिले आपको तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है।http://mhare-anubhav.blogspot.co.uk/

    ReplyDelete
  3. बधाई हो, आप यूँ ही लिखते रहें, आपको पढ़ना एक अलग अनुभव है।

    ReplyDelete
  4. Bahut-bahut Mubarak ho Shekhar...

    Khoob sara likho, yahi kaamna hai....

    ReplyDelete
  5. I Know That You Have The Blogger's Spark, Keep Moving Brother. I Still Think That Whatever You Did Is Counted As Your First Step, There Are Miles To Be Covered. Thanks Man For Mentioning Me Here, God Bless You

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thankz Manish... this part of my life was not possible without your help... Thankz a ton for helping me out for every silly question i've asked regarding my PC and this internet world.. you are the person who forced me to come to this internet universe, whweter it was orkut or blogging or whatever... I am still using the same GMAIL id which u've created for me..
      Miss You...

      Delete
  6. वाह शेखर बाबू...बहुत बहुत बधाई...केक तो बनता ही है इसपर..अगली बार बैंगलोर आऊंगा तो केक तैयार रखियेगा :) :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे एकदम आईये आईये... केक खिलाएंगे एकदम मस्त वाला....

      Delete
  7. तू तो गया बेटा ... जब नाम लिखने बैठा ही था तो स्तुति और मनीषा को कैसे भूल गए बेटा ???

    मिलो गैंग पर ... क्लास लगेगा तुम्हारा !

    वैसे १०० वी पोस्ट की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !


    इस पोस्ट के लिए आपका बहुत बहुत आभार - आपकी पोस्ट को शामिल किया गया है 'ब्लॉग बुलेटिन' पर - पधारें - और डालें एक नज़र - रुपये की औकात बता दी योजना आयोग ने - ब्लॉग बुलेटिन

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे हमरा मतलब था ब्लॉग से... ऊ दुन्नु को तो फेसबुक से जाने हैं न... देखिये आप ऐसा ग़लतफ़हमी मत फैलाईये... हाँ... नय तो भाभी से शिकायत कर देंगे....

      Delete
  8. I am really moved by this Post. Although i started this trend in our circle but was not able to get too far. However i am very happy for you. I always though you have a hidden talent as a writer. The only thing missing was a platform.

    Blogging has not only made you a better author but also a more happy man. I think the latter is the biggest advantage of the blogging for you. We got the real Shekhar back after you became a blogger.

    I still remember the time when we all used to prepare our blog posts and the great enthusiasm we showed while sharing it. It is great that you maintained the spark in you.

    Way to go bhai. Keep it up.

    Looking forward to read more from you.


    Yours friend forever,

    Prateek

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yes you are right, this is a whole new world for me, where i found myself... Writing was nothing for me before i have started blogging.. now i think i am happy... i read lots of good stuff here of other bloggers too and write whatever i think...
      Once again thank you very much...

      Delete
  9. बधाई और शुभकामनाएँ !!!

    ReplyDelete
  10. बहुत- बहुत बधाई हो...
    लिखते रखो....
    आपकी लेखनी उत्कृष्ट बनती जाये ....:-)
    :-)))))))))))

    ReplyDelete
  11. १०० वी पोस्ट की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  12. १०० वी पोस्ट की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें|इसी प्रकार लिखते रहें सुगबुगाहट होती रहे।

    ReplyDelete
  13. बहुत-बहुत बधाई सहित शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  14. बधाइयाँ.. बधाइयाँ.. बधाइयाँ.. बधाइयाँ..बधाइयाँ.. बधाइयाँ.. बधाइयाँ.. बधाइयाँ.. बधाइयाँ.. बधाइयाँ.. बधाइयाँ.. बधाइयाँ.. बधाइयाँ.. बधाइयाँ..बहुत बहुत शुभकामनाये !

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...