Saturday, October 9, 2010

सुनहरी यादें ....

                  बीते हफ्ते ना जाने कितनी रचनायें पढ़ीं , कोशिश थी कि अच्छी से अच्छी रचना आपके लिए लायी जाए... ऐसा लगा जैसे मैंने बहुत ही कठिन कार्य ले लिया हो, लेकिन सच में बहुत अच्छा लगा इतनी खुबसूरत रचनायें पढ़कर...
                  तो वादे के मुताबिक सुनहरी यादों के झरोखे से इस शनिवार मैं आपके लिए लाया हूँ आदरणीय रश्मि प्रभा जी की दो रचनायें...
                  पहली रचना जो उन्होंने 16 जनवरी  2008 को प्रकाशित की थी... माँ बनने के बाद एक स्त्री की सोच और ज़िन्दगी कितनी बदलती है उसका बहुत ही प्यारा सा वर्णन है... कविता का शीर्षक है ....
                                                             " मायने बदल जाते हैं.."
जब मासूम ज़िन्दगी अपने हाथों में,
अपनी शक्ल में मुस्कुराती है
तो जीवन के मायने बदल जाते हैं...
बचपन नए सिरे से दौड़ लगाता है!
कहाँ थे कंकड़, पत्थर?

कहाँ थी काई ?
वर्तमान में जीवंत हो जाते हैं॥
नज़रिये का पुनर्आंकलन
मासूम ज़िन्दगी से जुड़ जाते हैं...
जो हिदायतें अभिभावकों ने दी थी
वो अपनी जुबान पर मुखरित हो जाते हैं!
हमने नहीं मान कर क्या खोया
समझने लगते हैं
नज़र, टोने-टोटके पर विश्वास न होकर भी
विश्वास पनपने लगते हैं!
"उस वृक्ष पर डायन रहती है...."
पर ठहाके लगाते हम
अपनी मासूम ज़िन्दगी का हाथ पकड़ लेते हैं
"ज़रूरत क्या है वहाँ जाने की?"
माँ की सीख, पिता का झल्लाना
समय की नाजुकता समय की पाबंदी
सब सही नज़र आने लगते हैं!
पूरी ज़िन्दगी के मायने
पूरी तरह बदल जाते हैं |...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
दूसरी रचना कुछ नयी है, उम्मीद आप में से काफी लोगों ने पढ़ी होगी, यह उन्होंने १० जुलाई २००९ को प्रकाशित की थी..इस कविता में उन्होंने ज़िन्दगी में आने वाली परेशानियों का शुक्रिया अदा किया है.... यह कविता उन लोगों के लिए अमृत का काम करेगी जो ज़िन्दगी के दुखों से हताश हैं... कविता का शीर्षक है.....
                                                                   "  शुक्रगुज़ार "

दर्द ने मुझे तराशा है,
दर्द देनेवालों की
मैं शुक्रगुजार हूँ........
यदि दर्द ना मिलता
तो सुकून का अर्थ खो जाता,
खुशियों के मायने बदल जाते,
अपनों की पहचान नहीं होती,
गिरकर उठना नहीं आता,
आनेवाले क़दमों में
अनुभवों की डोर
नहीं बाँध पाती.........
मैं शुक्रगुजार हूँ,
उन क्रूर हृदयों का
जिन्होंने मुझे सहनशील होना सिखाया,
सिखाया शब्दों के अलग मायने
सिखाया अपने को पहचानना ........
तहेदिल से मैं शुक्रगुजार हूँ,
दर्द की सुनामियों की
जिसने मुझे डुबोया
और जीवन के सच्चे मोती दिए...........
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
उम्मीद है आपको यह दोनों रचनायें पसंद आयी होंगी... अपने विचार और सुझावों से मुझे जरूर अवगत कराएं....

49 comments:

  1. sunahri yaadon ka pahla ank bada sunahra hai....
    thanks for working on a innovative vision!!!

    ReplyDelete
  2. @ वीरेंदर जी..
    @अनुपमा जी..

    बहुत बहुत धन्यवाद....

    उम्मीद है आने वाले अंक भी पसंद आएंगे...

    ReplyDelete
  3. ्रश्मि जी की दोनो ही रचनायें बेहद उम्दा और गहन हैं……………पढवाने के लिए आभार्।

    ReplyDelete
  4. दोनो ही रचनायें बेहद उम्दा हैं……………पढवाने के लिए आभार्।

    ReplyDelete
  5. दोनों रचनाएँ ही शानदार है ...
    रश्मि जी को यहाँ देखना बहुत अच्छा लगा ...!

    ReplyDelete
  6. वंदना जी , संजय भाई, वाणी जी...
    आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद....

    ReplyDelete
  7. rashmi ji ki ye dono rachna punah yahan padhhi, bahut achha laga, bahut dhanyawaad shekher suman ji, rashmi ji ko badhai.

    ReplyDelete
  8. बहुत खूबसूरत हैं दोनों रचनाएँ ....और यहाँ पढवाने के लिए आपका आभार

    ReplyDelete
  9. both are beautiful....keep sharing!!

    ReplyDelete
  10. दोनों ही रचनाएँ बहुत सुंदर हैं ... रश्मि जी बधाई स्वीकारें .... शेखर जी आपका प्रयास सराहनीय है ... आभार

    ReplyDelete
  11. Shekahr ji,
    aapne dono kavitaaen achchi aur maarmik chhanti hain uske liye aap ko dhnyvaad.saath saath Rashmi Prabha ji ko bhi hamara dhanyvad pahuncha den.

    ReplyDelete
  12. श्रीमति रश्मीजी की कविताओं से उद्घाटन करने के लिए और प्रस्ताव का कार्यान्वयन के लिए बधाई।
    अब एक और ब्लॉग्गर से आपने हमारा परिचय कराया।
    रचनाएं अच्छी लगीं। चुन चुनकर ऐसी ही बेहतरीन और पठनीय लेख हर शनिवार को प्रकाशित करते रहिए।
    नवरात्री के अवसर पर आपको, आपके परिवार को और आपके सभी पाठकों को हमारी शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन रचनाएं --आप ही न एक दिन बहुरूपिये अर्थ देसाई क नेट पर खोज रहे थे ?

    ReplyDelete
  14. जी हाँ मिश्रा जी...क्यूँ कोई बात हुई क्या ???

    ReplyDelete
  15. two of tham are damm gud..keep that up n keep sharing..)

    ReplyDelete
  16. शेखर सुमनजी, आपका प्रयास तारीफे-काबिल है.

    ReplyDelete
  17. really both the poems really good and have deepm meanings.How the life of a woman changes when she becomes mother and how her life starts revolving around her offspring,has been depicted quite beautifully.

    The second poem about how facing hardships in life make us more determined and eventually improves our handling of situation even more better.

    Kudos to the poetess and also appreciation for u for bringing us such good creations to us.
    thanx buddy and keep rocking:-)

    ReplyDelete
  18. @ atul sir...
    thanku very much 4 ur kind comments....
    and @ PJ...
    thankz 2 u too....

    ReplyDelete
  19. @ रविन्द्र रवि जी बहुत बहुत धन्यवाद,,,,

    ReplyDelete
  20. @ shabnam ji, xitija ji, sangeeta ji, saumya

    बहुत बहुत धन्यवाद,,,,यूँ ही उत्साह बढ़ाते रहे..

    ReplyDelete
  21. Bahut hi pyari rachnayein....specially, pehli wali poem.. Thnk u Shekhar ji for let us have a luk over such wonderful poems...

    ReplyDelete
  22. बहुत से अहसास पिरोये है इनमे रश्मि जी ने...
    बहुत अच्छी लगी रचनाये
    शेखर जी आपका प्रयास अच्छा लगा

    ReplyDelete
  23. @ साखी जी और मोनाली जी..
    अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद |

    ReplyDelete
  24. शेखर जी आपका प्रयास सराहनीय है .

    ReplyDelete
  25. बेहतरीन रचनाएं
    बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों....बेहतरीन भाव....खूबसूरत कविता...

    ReplyDelete
  26. rashmi ko jitni bar parho utni bar naya lagta hai

    ReplyDelete
  27. दोनों ही बहुत सुन्दर...अभी एक बार फिर पढ़ रहा हूँ.

    ReplyDelete
  28. thanku sameer ji..aapne to meri kayi rachnayein miss kar di hain....

    ReplyDelete
  29. शेखर जी
    आगाज़ बहुत अच्छा लगा..................रश्मि जी की रचनाओं की बात ही कुछ और है........दुआ करती हूं कि ये शब्दों का सफर कभी खत्म ना हो...............बस बढ़ता जाये........

    ReplyDelete
  30. सुमन जी सबसे पहले तो आप जो इतनी मेहनत कर रहे हैं उसका शुक्रिया ...इतने ब्लोगों पर जाना ....खंगालना और बेहतरीन नज्मों को चुनना ....
    रश्मि जी कि दोनों रचनायें अनपढ़ी थी ...और रश्मि जी तो हैं हीं बेहतरीन रचनाकार .....दिल की भी उतनी ही साफ ....
    दोनों रचनायें बहुत अच्छी हैं ...खासकर ये पंक्तियाँ .....
    अगर दर्द न मिला होता तो
    सुकून कहीं खो जाता .....
    वाह ......

    रस्मी जी बधाई आपको पहली पोस्ट में चुनी जाने की ...

    ReplyDelete
  31. दोनों ही रचनाएं बहुत अच्छी हैं। बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
    नवरात्र के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    ReplyDelete
  32. अच्छा लगा यहाँ आकार/

    ReplyDelete
  33. शेखर जी, रश्मि जी कि कवितायेँ तो अच्छी लगती ही है ... आपके ब्लॉग पर उनकी कविता पढकर अच्छा लगा ...
    आपकी प्रयास सार्थक है ...

    ReplyDelete
  34. बेहतरीन रचनाएं !

    ReplyDelete
  35. Behad marmsparshi rachnaein.padkar achcha laga.

    ReplyDelete
  36. रश्मि प्रभा जी की हर कविता बेहतरीन होती है.आप ने जो चुनी हैं वे भी बेहद अच्छी हैं.
    आभार.

    ReplyDelete
  37. बहत सुन्दर कविता..अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  38. दोनो रचनाएँ लाजवाब हैं ... रश्मि जी का लिखा पढ़ना हमेशा ही अच्छा लगता है ...

    ReplyDelete
  39. सुन्दर रचनाएँ

    ReplyDelete
  40. बहुत ही सुंदर रचनाएं है शेखर जी ..आपके ब्लॉग का कलेवर तो मन को सुकून पहुंचा गया ..सच में ..। बहुत बहुत शुभकामनाएं शेखर भाई

    ReplyDelete
  41. दोनो रचनायें बहुत अच्छी लगी धन्यवाद इन्हें पढवाने के लिये। रश्मि जी हमेशा कहीं गहरे मे उतर कर श्गब्द खोज लाती हैं। बधाई उन्हें ।

    ReplyDelete
  42. रश्मि जी की कविताएँ पढ़ना एक सुखद अनुभव होता है. सराहनीय प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  43. बहुत अच्छी शुरुआत .......
    दो सुन्दर रचनाये पढवाने के लिए धन्यवाद...
    शुभकामाए

    ReplyDelete
  44. रश्मि जी वैसे भी लाजवाब लिखती हैं..बधाई.

    ReplyDelete
  45. दोनो रचनायें बहुत ही सुन्‍दर एवं गहरे भावों को साथ में समेटे में अनुपम एवं अनमोल हैं ।

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...