Thursday, October 28, 2010

उदास हैं हम....

हमें ना समझाओ कि उदास हैं हम
हमें न बुलाओ कि उदास हैं हम,

ज़िन्दगी मेरे करीब से गुज़र गयी
यह भी न देखा कि पास हैं हम,

जिसकी सुबह मोड़ से लौट गयी
ऐसी रात की टूटी आस हैं हम,

और उम्र न दे मुझे ए रब
इस ज़िन्दगी से निराश हैं हम,

ओस की एक बूँद को तरसती रह गयी
इस मैदान की वो सूखी घास हैं हम....

41 comments:

  1. bhavmayi prastuti ... shekhar ji

    जिसकी सुबह मोड़ से लौट गयी
    ऐसी रात की टूटी आस हैं हम,

    bahut khoob .....

    ReplyDelete
  2. आपकी उदासी अच्छी नहीं लगती हम तो ये ही कहेंगे की ............
    क्यों न समझाये ,क्यों न बुलाये,
    पता तो चले क्यों उदास है आप!
    जिन्दगी करीब से गुजर गयी होगी,
    परन्तु जिन्दगी का और भी लम्हा है आपके पास!
    रात की टूटी आस के बाद,
    सुबह की किरण है आपके पास!
    जिन्दगी से निरास न हो,
    रब की इनायत होगी आपके पास!
    ओस की बूंद को ना तरसो,
    अगली बरसात होगी आपके पास!

    ReplyDelete
  3. वाह ...

    जिंदगी मेरे पास से गुजर गई..

    क्या बात है

    ReplyDelete
  4. और उम्र न दे मुझे ए रब
    इस ज़िन्दगी से निराश हैं हम,
    jyada nirasha achi baat nahi....shekhar bhai..

    ReplyDelete
  5. sundar prastuti...........bahvpoorna

    ReplyDelete
  6. शेखर भाई ...आपकी ये रचना बहुत ही दमदार है.
    सच्ची दिल से कह रहा हूँ.

    ReplyDelete
  7. अमरजीत जी
    आपका यह जवाब तो मुझे बहुत पसंद आया...
    दिन सफल कर दिया मेरा आपने....बहुत बहुत धन्यवाद....

    ReplyDelete
  8. वीरेन्द्र भाई
    विश्वास है आपपर आपने दिल से ही कहा होगा..

    ReplyDelete
  9. अच्छी है कविता, उदासी नहीं!

    ReplyDelete
  10. Rachana bahut achhee hai...os kee boond ko tarastee ghaans...bahut sundar upma!

    ReplyDelete
  11. ओस की एक बूँद को तरसती रह गयी
    इस मैदान की वो सूखी घास हैं हम....
    मार्मिक अभिव्यक्ति। इतनी निराशा भी ठीक नही। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  12. रचना तो अच्छी है
    पर उदासी अच्छी नहीं
    जिन्दगी अभी निकल नहीं गई
    अब तुम्हारी उम्र ही क्या है?
    बस बीस या बाईस साल?
    अभी तो कई साल और भी हैं जीने के लिए
    अभी और कई अनुभवे हैं झेलने के लिए।
    धीरज रखो हिम्मत मत हारो
    अगली बार आशा, उन्नति, रोशनी, सफ़लता और खुशियाँ जैसे विषयों पर कविता लिखना

    शुभकामनाएं
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  13. kavita bahut achhi hai, per apne shabdon me dubo mat , upar aao... os ko aatmsaat kernewala bano... vichaaron ko antim saanson se mat gujaaro , sukha ghaas bhi hara hoga , ye vishwaas rakho

    ReplyDelete
  14. Udaasee ke mood ko bahut sahee pakda aapne ..

    magar aap prasann rahen isi dua ke saath !

    ReplyDelete
  15. किसने कहा कि उदास हैं आप__ वो देखों जिंदगी के पास हैं आप, न कहो कि जिंदगी छू कर निकल गयी आपको.. वो देखों ढूंढ रही हैं जिंदगी, उसकी तलाश हो आप...। उदासी और खुशी तो आती जाती रहती है, इसके लिए अलग से उदास होने की क्‍या बात है..। आपके उदास दिल से निकली ये उदास सदा हमें काफी पसंद आयी.. पर इसे दिल से मत लगा‍इएगा, ब्‍लॉग पर ही अच्‍छी हैं...।

    ReplyDelete
  16. निर्मला जी , क्षमा जी
    बहुत बहुत धन्यवाद....

    विश्वनाथ जी,

    अक्सर हम अपने से उम्र में छोटे लोगों को कहते हैं, अरे ये कौन सी परेशानी है , अभी तो पूरी ज़िन्दगी पड़ी है..

    यह कहना बिल्कुल वैसा ही है जैसे कोई १० वीं कक्षा का छात्र ६ ठी कक्षा के विद्यार्थी को कहे, अरे यह तो बहुत आसान सवाल है| शायद वो ये भूल जाता है कि इसी सवाल ने ४ साल पहले उसे भी परेशान किया था | खैर बहुत बहुत धन्यवाद आपने मेरा उत्साह बढाया, कोशिश करूंगा कोई सकारात्मक सोच पर कविता लिखूं, वैसे पिछली रचना ही सकारात्मक थी...

    ReplyDelete
  17. मृत्युंजय जी
    आपके ये जवाब देने का ढंग तो भा गया मुझे...
    बहुत बहुत धन्यवाद...यूँ ही उत्साह बढ़ाते रहें..

    ReplyDelete
  18. लिखा तो बहुत अच्छा है , उदासी जैसे रचना से टपकी पड़ रही है ...

    ReplyDelete
  19. इतनी उदासी ठीक नहीं, जीवन ही तो आस का नाम है, उदासी में भी खुश रहिये , उसमें भी कुछ गुण होते हैं जीवन के. हौसला देख कर उदासी में भी खुशियाँ बिखर जायेंगी.
    बहुत अच्छा लिखा लेकिन उदासों को जीना सीखना मुझे आता है जरा मिल के देखिये.

    ReplyDelete
  20. .

    We all go through such moments.

    But then there is always a solution for each problem and circumstances. I am sure you know very well, how to come out of it.

    Thanks for this wonderful creation.

    .

    ReplyDelete
  21. जिन्दगी करीब से गुजर गयी होगी,
    परन्तु जिन्दगी का और भी लम्हा है आपके पास!
    रात की टूटी आस के बाद,
    सुबह की किरण है आपके पास!
    जिन्दगी से निरास न हो,
    रब की इनायत होगी आपके पास!
    ओस की बूंद को ना तरसो,
    अगली बरसात होगी आपके पास!

    ---------

    Accolades for Amarjeet ji.

    ---------

    .

    ReplyDelete
  22. उदासी को छोड़ दीजिए ....अच्छी भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  23. bahut hi subdar prastuti ..........

    ReplyDelete
  24. Shekhar Suman,

    I really enjoyed reading the comments of Amarjeet and Mrityunjay Tripathi.

    Regards
    G Vishwanath

    ReplyDelete
  25. जिंदगी मेरे पास से गुजर गई....बहुत खूब.

    ReplyDelete
  26. शेखर सुमन जी एक तो उदासी की बात मत करिए कौन कहता है की आप उदास है चेहरा तो खिला हुआ है .
    बहुत सुन्दर कबिता------हमें न समझाओ की उदास है हम.
    हमें न बुलाओ की उदास है हम ---
    एक अच्छी रचना ----- आभार--

    ReplyDelete
  27. wah wah wah apki lekhni ke marm jadu se koi nahi bach sakta bahut khub

    ReplyDelete
  28. शेखर जी ... ऐसी निराशा क़ि बात कहे करते हैं ... जीवन बहुत लम्बा है ....
    बहुत लाजवाब ग़ज़ल है आज .... मज़ा आ गया ... हर शेर दर्द से भरा है ....

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  30. अहसास से भरी रचना .....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  31. रचना बहुत ही दमदार है.धन्यवाद|

    ReplyDelete
  32. अमरजीत जी की बात से बिलकुल सहमत है हम भी!

    ReplyDelete
  33. pyaree kavita aur sunder abhivykti. kabhee khushee to kabhee udasee ke ehsaas jindagee me aate hee hai.........busvhava ke jhoke see udasee ud bhee jaya kartee hai........
    ye hee jeevan hai.......
    Aabhar

    ReplyDelete
  34. bahut sunder rachna and I really hope that you are feeling better....

    ReplyDelete
  35. zindagi dhoond rahi hai humen konon mein chipkar..
    kabhi mukaam toh kabhi talaash hain hum...

    ReplyDelete
  36. बहुत अच्छी कविता शेखर ...उदासी का खुबसूरत बयां ..

    ReplyDelete
  37. ज़िन्दगी मेरे करीब से गुज़र गयी
    यह भी न देखा कि पास हैं हम,
    sundar panktiyan!

    ReplyDelete
  38. bahut sunder rachana hai ...bat udasi ki to hai par ye bhi jeevan ka ek rang hai ....bas ise apane par hawi na hone dena......

    ReplyDelete
  39. मन की भावनाओं को खूबसूरती से अभिव्यक्त करती हुई एक बेहद ही उम्दा रचना
    :)

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...